मुख्यमंत्री ने प्रदेश के किसानों के लिए खेतों में आवारा पशुओं से छुटकारा पाने के लिए जिलाधिकारियों को दिए यह निर्देश

ताजा ख़बर

लखनऊ। योगी आदित्यनाथ ने आदेश दिया है कि आगामी 10 जनवरी को प्रदेश के सभी आवारा गायों को गो-संरक्षण केंद्र में पहुँचाने के निर्देश दिये हैं।

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिला अधिकारियों को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा है कि गो -संरक्षण केंद्रों में पशुओं के चारे, पानी और सुरक्षा की पूरी व्यवस्था की जाये। जहाँ पर चहारदीवारी नहीं है बहां फेंसिंग की व्यवस्था की जाये। और इन केंद्रों में पशुओं की देखरेख करने वालों की पूरी व्यवस्था की जाये।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

योगी ने कहा कि आवारा पशुओं के मालिकों का पता लगाकर उनके खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाये। गो-संरक्षण केंद्र से अपने पशु को छुड़ाने के लिए आने वालों से आर्थिक दंड वसूला जाये। मुख्यमंत्री ने कहा है कि बेसहारा और आवारा पशु जहाँ नगरीय क्षेत्रों में दुर्घटनाओं का कारण बनते है, बहीं ग्रामीण क्षेत्रो में ये फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

योगी ने जिला अधिकारियों को यह भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि सभी गो-संरक्षण केंद्रों में गोवंश का रख-रखाव भली-भांति हो।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निकायों में कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना के लिए वित्तीय बर्ष 2017-18 में 60 करोड़ रूपये तथा वित्तीय 2018 -19 में निर्माण कार्य हेतु 95 करोड़ रूपये तथा भूसे चारे आदि के लिए 23.5 करोड़ रूपये कि व्यवस्था वजट के जरिये की गई है।

उन्होंने कहा है कि इस धनराशि का शीघ्रता से इसके उदेश्य के लिए उपयोग किया जाये

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 1087



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।