किसान हो तो औरंगाबाद के बृजकिशोर मेहता जैसा, खुद तो हुए ही अमीर, साथ में 45 किसान परिवारों को भी किया मालामाल

ताजा ख़बर नई खोज
आज हम एक ऐसे किसान के बारे में आपको बताएंगे जिसने बिहार की जमीन पर स्ट्रॉबेरी की खेती ( strawberry farming in bihar) करके अपनी जिंदगी के साथ-साथ कई किसानों की जिंदगी सवार दी। औरंगाबाद के इस किसान के हौसले और जुनून ने पूरे गांव की तकदीर बदल दी। आज औरंगाबाद के चिल्हकी बिगहा गांव के किसान स्ट्रॉबेरी की खेती करके मालामाल हो रहे हैं। इसका श्रेय औरंगाबाद के कुटुंबा प्रखंद के चिल्हकी बिगहा गांव के बृजकिशोर मेहता को जाता है।
बृजकिशोर मेहता ने 2013 में पहली बार स्टोबेरी के सात पौधे लगाकर इसकी शुरुआत की थी। धीरे-धीरे इस खेती से अच्छा मुनाफा होते देख इसे बड़े पैमाने पर उगाने लगे। बृजकिशोर की इस सफलता को देखते हुए गांव के अन्य किसान भी स्ट्रॉबेरी की खेती करने लगे। आज चिल्हकी बिगहा गांव के अलावा आसपास के लगभग 25 किसान लगभग 44 बीघे में इसकी खेती कर रहे हैं।
कितनी होती है कमाई
स्ट्रॉबेरी की खेती में प्रति बीघा लगभग 1 से 2 लाख रुपये की लागत आती है यानी एक एकड़ में 5 से 10 लाख रूपए। अगर कमाई की बात करें तो इसमें लगभग 4 से 5 लाख रुपये की कमाई प्रति बीघा होती यानी एक एकड़ में 20 से 25 लाख रुपये की कमाई।
इतनी लागत होने का सबसे बड़ा कारण है पौधों को महंगा होना क्योंकि इनको बाहर से मंगवाया जाता है।
 
 
कैसे पहाड़ों की खेती बिहार के मैदानी इलाके में शुरु हुई
बृजकिशोर मेहता को औरंगबाद में खेती करने की ख्याल तब आया जब वह अपने बेटे से मिलने हरियाणा गए। उन्होंने वहां देखा कि हरियाणा की जलवायु और जमीन पर स्ट्रॉबेरी की खेती की जा रही है। तब उन्होंने सोचा की जब हरियाणा की जलवायु औऱ जमीन पर स्ट्रॉबेरी की खेती हो सकती है तो बिहार में क्यों नहीं? बिहार और हरियाणा की जलवायु लगभग एक समान तो है।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

धीरे-धीरे यहां के मुख्य व्यवसाय में उभर रही है स्टॉबेरी की खेती
बृजकिशोर मेहता जब साल 2013 में हिसार से वे स्ट्रॉबेरी की खेती देखकर आए थे तब उन्होंने सात स्ट्रॉबेरी के पौधों लगाकर खेती की शुरूआत की। धीरे धीरे स्ट्रॉबेरी की खेती मे अच्छा मुनाफा देख बृजकिशोर ने बड़े स्तर पर खेती की शुरूआत की। अब धीरे-धीरे चिल्हकी विगहा गांव के अन्य किसान भी इस खेती में अपना हाथ आजमाने लगे हैं। आज यह खेती यहां के किसानों का मुख्य व्यवसाय के रूप में उधर चुकी है। चिल्हकी बिगहा गांव के अलावा आस-पास के गांव ही नही बल्कि झारखंड भी इसकी खेती करने लगी है।
इटली से भी मंगाए जाने लगे हैं पौधे
जब बिहार में स्टॉबेरी की खेती की शुरूआत की गई तब स्ट्रॉबेरी लगाने के लिए हरियाणा से पौधे मंगाए जाते थे लेकिन अब यहां के किसान इटली से भी स्ट्रॉबेरी के पौधे मंगाने लगे हैं। यहां के किसानों के मुताबिक इटली के पौधों की वैरायटी अच्छी होती है। इससे लगने वाले स्ट्रॉबेरी काफी मीठे और बड़े होते हैं और बाजार में इसकी मांग भी काफी होती है।
क्या है सबसे बड़ी समस्या और उसका समाधान
स्टॉबेरी की खेती के लिए सबसे बड़ी समस्या मार्केटिंग और स्टोरेज की है। यहां के किसान स्ट्रॉबेरी को स्टोर खुद नहीं कर सकते और न ही सरकार ने इसके लिए कोई कदम उठाया है। लेकिन बिहार के किसानों ने इसका भी समाधान निकाल लिया है। बिहार के किसान अब कोलकाता और बाकी के बड़े शहरों में जाकर इसकी मार्केटिंग भी कर रहे हैं जिससे उनकी पूरी फसल अच्छे दामों पर बिक जाती है।

दिल्ली, कोलकाता जैसे बड़े शहरो में होती है सप्लाई

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

औरंगाबाद के स्ट़ॉबेरी की सप्लाय अब केवल बिहार ही नही बल्कि कोलकाता, दिल्ली जैसे शहरों में भी होने लगे हैं

 

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 1487



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

91 thoughts on “किसान हो तो औरंगाबाद के बृजकिशोर मेहता जैसा, खुद तो हुए ही अमीर, साथ में 45 किसान परिवारों को भी किया मालामाल

  1. Pingback: viagra coupons
  2. Pingback: buy viagra
  3. Pingback: viagra pills
  4. Pingback: viagra
  5. Pingback: Female viagra
  6. Pingback: cheap viagra
  7. Pingback: cheap viagra
  8. Pingback: viagra pills
  9. Pingback: cheap viagra
  10. Pingback: natural viagra
  11. Pingback: buy viagra
  12. Pingback: buy viagra
  13. Pingback: viagra coupons
  14. Pingback: viagra pills
  15. Pingback: viagra online
  16. Pingback: viagra prices
  17. Pingback: viagra tablets
  18. Pingback: female viagra
  19. Pingback: generic viagra
  20. Pingback: generic viagra
  21. Pingback: viagra 100mg
  22. Pingback: viagra prices
  23. Pingback: buy viagra
  24. Pingback: viagra pills
  25. Pingback: viagra generic
  26. Pingback: Viagra prices
  27. Pingback: generic viagra
  28. Pingback: viagra
  29. Pingback: viagra pills
  30. Pingback: viagra prices
  31. Pingback: cheap viagra
  32. Pingback: viagra connect
  33. Pingback: female viagra
  34. Pingback: viagra
  35. Pingback: viagra generic
  36. Pingback: viagra for women
  37. Pingback: viagra coupons
  38. Pingback: generic viagra
  39. Pingback: viagra connect
  40. Pingback: generic viagra
  41. Pingback: Viagra online
  42. Pingback: viagra coupons
  43. Pingback: viagra tablets
  44. Pingback: viagra for women
  45. Pingback: viagra connect
  46. Pingback: generic viagra
  47. Pingback: viagra 100mg
  48. Pingback: viagra online
  49. Pingback: cheap viagra
  50. Pingback: generic viagra

Comments are closed.