Press "Enter" to skip to content

20 ऐसी फसलें जो दवा बनाने के लिए होती हैं, कंपनियां करती है इनके लिए किसानों के साथ Contract Farming

Hits: 1815

वैसे तो कुल 32 औषधियों (medicical crops) वाली फसलें हैं लेकिन यहां हम top 20 फसलों की संक्षिप्त जानकारी दे रहे हैं। ये वो फसलें हैं जिनसे छोटी-बड़ी सभी तरह की बिमारियों के इलाज के लिए बनने वाली दवाओं के लिए उगाया जाता है।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

#20. Yashtimadhu – Glycyrrhiza glabra

मुलीठी जिसे आर्युवेद में याशतीमधु और अंग्रेजी में लीकोराइज (Liquorice) कहते हैं। इसकी जड़ चीनी से भी 50 गुना ज्यादा मीठी होती है।

इसका इस्तेमाल दवा और सौंदर्य उत्पाद बनाने वाली कंपनियां करती हैं। इससे बनने वाली दवाओं का इस्तेमाल छाले (Ulcer),  जोड़ों में दर्द (joint pains) जैसी कुछ बिमारियों के इलाज में किया जाता है।




#19. Vanilla – Vanilla planifolia

वनीला (Vanilla) – यह नाम सुनते ही आपके दिमाग में आइसक्रीम या फिर बर्थ केक की तसवीर ऊभर आएगी। लेकिन सच्चाई ये है कि यह भी एक फसल है जिसको दक्षिण अमेरिकी देश मैक्सिकों से आई है।

दुनिया में केसर के बाद वनीला की फसल को ही सबसे ज्यादा कीमत मिलती है। इसका इस्तेमाल भी दवा और खाने पीने की चीजें बनाने वाली कंपनियां ही करती हैं।

भारत में वनीला की खेती सबसे ज्यादा कर्नाटक राज्य में होती है।

क्या आपको KisanKhabar.com की तरफ से खेती की अच्छी ख़बरें WhatsApp पर मिलती हैं?

View Results

Loading ... Loading ...

#18. Stevia – Stevia Rebaudiana

स्टैविया (Stevia) – एक ऐसी फसल जो अब शुगर के मरीजों के लिए वरदान बन गई है। स्टैविया के पौधे का इस्तेमाल शुगर की गोलियां बनाने में ज्यादा किया जाता है ताकि जो मरीज मीठा खाने के शौकीन हैं लेकिन शुगर की बिमारी की वजह से खा नहीं सकते, वो स्टैविया से बनी गोलियां खा सकें।

भारत में पिछले कुछ सालों में स्टैवियां की खेती का चलन तेजी से बढ़ा है क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा लाभ होता है। इसका इस्तेमाल कुछ और तरह की बिमारियों के लिए दवा बनाने में भी किया जाता जाता है।

 




#17. Sarpagandha – Rauvolfia Serpentina

High BP और नींद ना आने की बिमारी तो अब देश में आम हो गई है। ऐसे में सरपागंधा की फसल की डिमांड भी बहुत तेजी से बढ़ी है क्योंकि High BP और नींद ना आने की बिमारी इलाज में सरपागंधा का ही इस्तेमाल किया जाता है।

 

#16. Safed Musli – Chlorophytum Borivilianum

अगर आप च्ववनप्राश खाते हैं या आपके घर में बच्चों खाते हैं तो समझ जाइए कि वो सफेद मुसली ही खा रहे हैं। कोई भी च्ववनप्राश इसके बिना नहीं बन सकता। यानी शरीर की क्षमता बढ़ाने और शरी में आई कमजोरी को दूर करने में बनने वाली दवाओं में इसका इस्तेाल होता है।

यही नहीं, सेक्स संबंधी दवाओं में भी सफेद मूसली का ही इस्तेमाल होता है। इसकी डिमांड दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है।




#15. Patchouli – Pogostemon cablin

पैचोली जिसको हिन्दी में सुगंधरा भी कहते हैं, इसका इससे तेल बनाया जाता है। इस तेल का इस्तेमाल घाव को जल्दी भरने में किया जाता है। इसके अलावा इसके तेल का प्रयोग छालों (ulcer) का इलाज करने और डिप्रैशन की बिमारी में किया जाता है।

तेज धूप वाला मौसम इस फसल के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। हालांकि इसको शेड्स में भी उगाया जाता है, लेकिन पूरी तरह से शेड में इसे नहीं उगाया जाता।

#14. Parsley – Petroselinum crispum

पार्स्ली को अजमोदा के नाम भी भारत में जाना जाता है। शरीर में विटामिन A और C की कमी दूर करने के लिए जो भी दवाएं या उत्पाद बनते हैं उनमें पार्स्ली (अजमोदा) का ही इस्तेमाल होता है। लेकिन टर्की देश में इसका इस्तेमाल डायबिटीज की बिमारी की रोकथाम के लिए भी होता है।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

#13. Lemon Grass – Cymbopogon

लेमन ग्रास (Lemon Grass) से साबुन, परफ्यूम, डिटरजैंट्स इत्यादि बनाया जाता है। अच्छी बात ये है कि इसको कोई जानवर नहीं खाता यानी जानवरों से बर्बादी का खत्म इसको नहीं होता।

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के एक युवा किसान विपिन सिंह ने कुछ साल पहले ही इसकी खेती शुरु की है और वो लागत का कई गुना कमाई Lemon grass farming से कर रहे हैं। इस फसल को करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार भी पूरा सपोर्ट कर रही है।

Lemon grass farming करने वाले किसान की कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।




#12. Lavender – Lavandula

लैवेन्डर की खेती भारत में बहुत ज्यादा कमाई वाली फसलों में से एक है। लेकिन इसको सभी जगह पर नहीं उगाया जा सकता। लैवेन्डर को सिर्फ बहुत सर्द मौसम जैसे हिमालय रीजन, जहां पर बर्फ गिरती है, वहीं किया जा सकता है। इसको पानी की जरूरत सिर्फ पहली बार पौधा लगाते समय ही होती है।

लैवेन्डर से तेल बनाया जाता है जिसका इस्तेमाल भी मानसिक अवसाद से निपटने, नींद की बिमारी के इलाज और दर्द को दूर करने में होता है।

#11. Kesar – Crocus sativus

दुनिया की सबसे महंगी फसल का नाम है केसर। केसर भी औषधियों वाली फसलों की श्रेणी में आता है। इसका इस्तेमाल खाने की चीजें जैसे आइसक्रीम, क्रीम इत्यादि बनाने वाली कंपनियों सबसे ज्यादा करती हैं।

#10. Jatropha – Jatropha curcas

जैट्रोफा यानी रतनजोत की फसल से तेल निकाला जाता है। इससे बनने वाली दवाओं का इस्तेमाल कैंसर जैसी बिमारियों के इलाज में किया जाता है। इसके अलावा HIV से जुड़ी बिमारियों की रोकथाम में भी इसका प्रयोग हो रहा है।

अच्छी बात ये है कि जैट्रोफा यानी रतनजोत की फसल को उन जगहों पर भी उगाया जा सकता है जहां या तो बरसात कम होती है या फिर वहां सूखा ज्यादा रहता है या फिर जहां की मिट्टी ज्यादा उपजाऊ नहीं है।




#9. Jatamansi – Nardostachys Jatamansi

जटामांसी का प्रयोग मानसिक तनाव से जुड़ी बिमारियों के इलाज में किया जाता है। दिली की बिमारी, बालों को तेजी से बढ़ाने और लीवर से जुड़ी समस्या समेत कई और बिमारियों के इलाज में इसका इस्तेमाल होता है।

जटामांसी को अलग अलग जगहों पर अलग अलग नामों से जाना जाता है। इस

स्पाइकनर्ड spikenard, नर्ड nard, नर्डिन nardin, मस्करूट muskroot, बल्चर balchar, सम्बुल-उट-तीब sumbul-ut-teeb, सम्बुल-तलीफ sambul lateeb के नाम भी जाना जाता है।

 

#8. Guggal – Commiphora Wightii

वजन कम करने वाली दवाओं और पाउडर के विज्ञापन आपने खूब देखे हैं। इन सभी दवाओं में गुग्गल फसल का ही इस्तेमाल होता है। भारत में राजस्थान में गुग्गल फसल सबसे ज्यादा होती है। इसको करीब पिछले 1600 साल से उगाया जा रहा है।

इसके इस्तेमाल त्वचा से जुड़ी बिमारियों और कोलेस्ट्रॉल बिमारी के इलाज में भी किया जाता है।

#7. Daruharidra – Berberis Aristata

डायबिटिज, खुजली, पेशाब से जुड़ी बिमारियो के इलाज में धारू हरिद्रा (Daru Haridra) का इस्तेमाल कारगर होता है। इसका इस्तेमाल जूस और ब्यूटी प्रॉडक्ट्स बनाने वाली कंपनियां भी करती हैं। इसके अलावा त्वाच संबंधी बिमारियों के इलाज से जुड़ी दवाओं में भी Daru Haridra का ही इस्तेमाल होता है।




#6. Calendula – Calendula officinalis

टीवी पर आप रोजाना खूबसूबरत मॉडल्स और एक्ट्रेसिस को मॉइसचर उत्दानो का एड करते खूब देखते हैं। लेकिन अब अगर वो एड आपको दिख जाए तो समझ जाइएगा कि उस प्रॉडे्कट को बनाने में कैलेनडुला (Calendula) फसल का ही इस्तेमाल हुआ है।

Calendula से त्वचा के रूखेपन को दूर करने वाले उत्पाद बनाए जाते हैं।

Calendula को उगाना आसान है। इसको खराब मिट्टी पर भी उगाया जा सकता है। गरम और हल्के गरम मौसम में भी ये फसल हो जाती है लेकिन इसको पानी को बहुत जरूरत होती है।

#5. Brahmi – Bacopa Monnieri

ब्राहमी – संस्कृत भाषा का आर्युवेदिक नाम। औषधियों वाली फसलों में बहुत की कीमती है ये फसल। इसका इस्तेमाल हजारों सालों से चला आ रहा है। इसको त्वचा, बालों की खूबसूरती बढ़ाने के साथ साथ ब्लड सेल्स बढ़ाने में भी किया जाता है।

#4. Basil – Ocimum basilicum

भारत में घर घर जिसकी पूजा होती है वो है तुलसी यानी बैसिल (Basil) । तुलसी को औषधियों वाली फसलों की रानी कहा जाता है। इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा बिमारियों के इलाज में बनने वाली दवाओं के लिए किया जाता है।

दवाओं के अलावा, सौंदर्य उत्पाद और खाने पीने की चीजें बनाने वाली कंपनियां भी इसका इस्तेमाल खूब करती हैं।

सबसे अच्छी बात ये है कि तुलसी को आप किसी भी मौसम में कर सकते हैं। यहां तक कि आप इसके घर में घमलों में भी उगा सकते हैं।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

तुलसी से जुड़ी खेती की ये ख़बर भी पढ़ें – 15 हजार की लागत पर 3 लाख की कमाई करनी है तो तुलसी की खेती करो

#3. Ashwagandha – Withania Somnifera

अश्वगंधा की खेती उन इलाकों में आसानी से हो जाती है जहां का मौसम गरम रहता है। यानी जहां गर्मी ज्यादा पड़ती है। देश में मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में अश्वगंधा की खेती सबसे ज्यादा होती है।

इसकी बाजार में डिमांड भी खूब है। इसका इस्तेमाल हजारों सालों से होता चला रहा है क्योंकि अश्वगंधा से ब्डल शुगर की समस्या, दिमाग से जुड़ी बिमारियां, बैचेनी और depression (मानसिक अवसाद) के इलाज में मदद मिलती है।

#2. Amla – Phyllanthus Embolic

आमला (Amla) – यह नाम तो बहुत ही आम है। हर कोई जानता है आमला को। लेकिन ये नहीं जानते कि Top 20 औषधियों वाली फसलों में यह दूसरे नंबर पर है।

आमला की खेती भारत में बहुत होती है क्योंकि यह tropical प्लांट है। आमला को आप रेतिली मिट्टी को छोड़ आमतौर पर बाकी किसी भी हल्की और मध्यम हैवी मिट्टी पर उगा सकते हैं।

#1. Aloe vera – Aloe Barbadensis miller – एलो वीरा

औषधी वाली फसलों में एलो वीरा सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाने वाली फसल है। इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा दवा और सौंदर्य पदार्थ बनाने वाली कंपनियां करती हैं। Aleo vera की खेती ना केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी contract farming के तौर पर होती है।

राजस्थान में तो एक सरकारी कर्चचारी ने सरकारी नौकरी छोड़ Aleo Vera की खेती कुछ साल पहले शुरु की और अब उसकी कमाई छप्पर फाड़ होती है।

List Of Medicinal Herbs To Grow Commercially With Botanical Name

अगर आपको यह ख़बर पसदं आई है तो कृप्या नीचे दिए गए Facebook Like Box पर लाइक करने का कष्ट करें और हो सके तो ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ इसे शेयर करें ताकि अच्छी ख़बरों का फायदा सभी किसान भाइयों और उन लोगों को मिल सके तो खेती में अच्छी कमाई की तलाश में हैं।

इसके अलावा अगर। इस पोस्ट के बारे में कोई सुझाव हो तो आप नीचे दिए गए कॉमेंट बॉक्स में अपने सुझाव या राय दे सकते हैं।

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

Zero Tillage Machine kheti ki nayi takneeq खेती की नई तकनीक

Zero Tillage Machine kheti ki nayi takneeq खेती की नई तकनीक, बिना खेत जोते ही 16 प्रतिशत पाओ ज्यादा उत्पादन

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat