Press "Enter" to skip to content

किस्मत का खेल देखों, किसान को खेत में मिले 40 अरब रूपए, बन गया एक ही पल में खाकपति से अरबपति

Hits: 9490

ख़बर की हेडलाइन से ये मत सोचिए कि ये कोई फर्जी ख़बर है। दक्षिण अमेरिकी देश कोलम्बिया में वाकई में एक किसान की किस्मत ऐसी पलटी कि वो एक ही पल में खाकपति से अरबपति बन गया।

कोलंबिया के जोस मैरियेना कार्टोलोस ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि अपने ही खेत में काम करते करते उसकी किस्मत यूं बदल जाएगी और वह सीधा फर्श से अर्श पर पहुच जाएंगा। खेत में खुदाई का काम करते करते जोस को जो मिला उसे देख जोस के साथ साथ सभी के होश उड़ गए।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान




खेत में कैसे मिले 40 अरब रूपए

khet main mila khazana
khet main mila khazana

 

अगर आप वॉट्सअप पर खेती की अच्छी ख़बरें रोज चाहते हैं, तो यहां  क्लिक करके WhatsApp Group Join कीजिए

इससे पहले जोस ने अपनी जमीन का कुछ हिस्सा सरकार को ऑयल प्लांटेशन भी दिया था जिके ऐवज में सरकार ने जोस को करीब 2 लाख रुपए भी दिए थे।

एक दिन जब वे अपनी जमीन की खुदाई का काम कर रहे थे, तभी उसकी नजर एक ब्लू रंग के गैलन पर पड़ी। पहले तो उन्हे लगा कि यह कोई साधारण डब्बा है, जिसे  शायद किसी ने यहां छुपा रखा है।

लेकिन जैसे ही उस डब्बे को बाहर निकाल कर देखा तो वे खुद ये देख कर हैरान हो गए। जी हॉ कोलंबिया के 65 साल के किसान जोस मैरियेना कार्टोलोस को जमीन के नीचे मिले नीले रंग के गैलन से करीब 4000 करोड़ रु यानी 40 अरब रूपए मिले।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान




khet main mila khazana
khet main mila khazana

 

अगर आप वॉट्सअप पर खेती की अच्छी ख़बरें रोज चाहते हैं, तो  क्लिक करके WhatsApp Group Join कीजिए

 

क्या किया उस पैसे का

हालांकि, इस बात की आधिकारिक जानकारी कहीं नहीं है कि उस पैसे के साथ क्या हुआ। कहा जा रहा है कि उनमें से कुछ पैसे जोस को दे दिया गया और बचे पैसे को सामाजिक काम में लगा दिया गया।

 




किसका था वो पैसा

कहा जा रहा है कि इतनी बड़ी रकम दुनिया के सबसे बड़े ड्रग डीलर Pablo Emilio Escobar Gaviria की हो सकती हैं।

Pablo ने आपने काले रुपये-पैसे और नशीले समान को ना जाने कहा कहा-कहा छिपा रखा हैं। Pablo की मृत्यु 1993 में पुलिस के साथ मुठभेड़ में हो गई थी।

 

क्या आपको KisanKhabar.com की तरफ से खेती की अच्छी ख़बरें WhatsApp पर मिलती हैं?

View Results

Loading ... Loading ...

 

अगर आप वॉट्सअप पर खेती की अच्छी ख़बरें रोज चाहते हैं, तो यहां क्लिक करके WhatsApp Group Join कीजिए।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

IPPCI Media | 1st Digital Media Awards 2019 | Speech on Future of Online Hindi Media by Pushpandra S

सवाल ये कि न्यूजपेपर, रेडियो, टीवी के बाद मीडिया को ऑनलाइन मीडिया का जो नया रूप मिला है उसके बाद अब क्या होगा? सवाल ये भी क्या जो मीडिया हाउसिस ने 200-300 पत्रकारों की टीम बैठाकर पोर्टल चला रहे हैं वो आने वाले समय में बड़ी टीम के बोझ को झेल पायेंगे? क्या आने वाले 5 से 8 साल में इनमें भी टीवी न्यूज़ की तरह ही छटनी होगी? सवाल ये भी क्या वाकई में 5 साल बाद ये पोर्टल अपने कर्मचारियों की सैलरी की जिम्मेदारियों के अलावा तकनीकी और प्रमोशन के स्तर पर बढ़ने वाले खर्चे को झेल पायेंगे? क्या वाकई में टीवी की रेटिंग फाइट की तरह ऑनलाइन मीडिया ट्रैफिक की लड़ाई में जिंदा रह पाएगा। कुल मिलाकर एक ही सवाल कि मीडिया के नए रूप ऑनलाइन मीडिया का अगला रूप क्या देखने को मिलेगा। शायद ये सवाल समय से काफी पहले पूछा गया लगे लेकिन सच्चाई ये है कि ऑनलाइन मीडिया के मामले में भारत बहुत देरी से एंटर हुआ है। इसलिए अतंर्राष्ट्रीय पर इस सवाल के जवाब की खोज भी शुरु हो चुकी है और कुछ हद तक जवाब भी मिल चुका है। जवाब मिला है UGC और PGC कॉन्टेंट मार्केट के रूप में।

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

3 Comments

  1. Like!! Thank you for publishing this awesome article.

Comments are closed, but <a href="https://kisankhabar.com/2017/03/columbian-farmer-found-billions-dollars-in-his-farmland/trackback/" title="Trackback URL for this post">trackbacks</a> and pingbacks are open.

WhatsApp chat