Press "Enter" to skip to content

कृषि वैज्ञानिक रिक्रूटमेंट बोर्ड में वरिष्ठ वैज्ञानिकों के लिए Jobs, भारत और विदेश में रहने वाले वैज्ञानिकों के लिए कुल 22 जगह खाली

Hits: 895

ICAR (कृषि वैज्ञानिक रिक्रूटमेंट बोर्ड) की अलग अलग इंस्टिट्यूट्स में सिनियर वैज्ञानिकों की भर्ती हो रही है। भारतीयों के अलावा विदेश में रहकर काम करने वालें अनुभवी वैज्ञानिक भी इस पोस्ट के लिए अपना आवेदन भेज सकते है।

एप्लिकेशन भेजने के लिए आप www.asrb.org.in और  www.icar.org.in  पर लोग ईन कर वेकेन्सी टैब पर क्लिक करके फोर्म डाउनलोड कर सकते है।

एप्लिकेशन भेजने की आखरी तारिख 09.01.2017 है। वही विदेश से या फिर देश के दूर दराज के ऐसे इलाके जिनके नाम चिन्हित किये गये है वहां से आनेवाली एप्लिकेशन की आखरी तारिख 24.01.2017 है।

ये भी पढ़ें – गांव, देहात और एग्रीकल्चर क्षेत्र में बाकी नौकरियां देखने के लिए यहां क्लिक करें

उम्र की सीमा – 47 से उपर नही होनी चाहिए। पहले से आईसीएआर में काम कर रहे वैज्ञानिकों के लिए उम्र की सीमा तय नही है। वहीं रिटायरमेन्ट की उम्र 62 साल है।

भारतीय आवेदन कर्ता कों एप्लिकेशन फोर्म के साथ 500 रुपए का डिमान्ड ड्राफ्ट सेक्रेटरी ASRB के नाम बनाकर भेजना होगा। वही महिलाओं, हेन्डीकैप, SC/ST कैटेगरी के लोगों को फोर्म के साथ फीस भरने में छूट मिली हुई है। उन्हें बिना फीस के सिर्फ एप्लिकेशन फोर्म भरकर भेजना होगा।

वही विदेश में रहनेवालें एप्लिकेन्ट्स को अमेरिकन $ 50 एप्लिकेशन फोर्म के साथ भरने होंगे। विदेश में रहनेवाले एप्लिकन्ट्स ये फीस कैसे भरनी है उसकी पूरी जानकारी उपर दी हुई साइट्स पर जाकर ले सकते है।

अपेक्षित अनुभव और डीग्री

फ्लोरिकल्चर एवं लैंड स्केपिंग में विशेषज्ञता सहित प्रासंगिक बेसिक विज्ञान में डॉक्टर डिग्री, हॉर्टिकल्चर या लैंड स्केपिंग एवं फ्लोरिकल्चर में डॉक्टरल डिग्री

सैलेरी – पे बैड-4, रुपए 37,400 – रुपए 67000 + डीजीपी रुपए 9000/-

नोट – यह विज्ञापन दैनिक जागरण न्यूजपेपर में 11 दिसम्बर 2016 को पेज नंबर 6 पर छपा है।

ये भी पढ़ें – गांव, देहात और एग्रीकल्चर क्षेत्र में बाकी नौकरियां देखने के लिए यहां क्लिक करें

How to stop fake news | FakeNewsStop.com |

Google, Facebook, भारत सरकार, अमेरिकी सरकार या फिर दुनिया की कोई भी सरकार हो, सभी को एक ही परेशानी है कि Fake News को कैसे रोका जाए। Internet की दुनिया की सबसे बड़ी परेशानियों में से एक इस समस्या का पूरी तरह से सफल समाधान अभी तक Google, Facebook जैसी दिग्गज Internet कंपनियां भी ढूंढ नहीं पाई हैं। Artificial Technology (AI) तकनीक भी काम नहीं कर पा रही है। लेकिन FakeNewsStop.com इस समस्या का कारगर समाधान ढूंढ लिया है।

Facebook Comments

Facebook Comments

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat