LOADING

Type to search

ताजा ख़बर नई तकनीक

क्यों वीरेंद्र सहवाग यूपी के एक किसान परिवार के बेटे की मदद के लिए आगे आए? क्यों लोग सहवाग के फाउंडेशन के बैंक एकाउंट में करवा रहे हैं पैसे जमा? पढ़िए पूरी रिपोर्ट

Share
virendra-sehwag-supports-farmer-family-jpg-resized

Hits: 1911

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

जब जब किसी की मदद की बात आती है, तो फिल्मी पर्दे पर बड़ी बड़ी बातें करने वाले फिल्मी सितारों  से आगे हमेशा क्रिकेटर ही होते हैं। हाल ही में किसानों की मदद के लिए अक्षय कुमार आगे आए थे जिसकी ख़बर भी किसानख़बर.कॉम ने दी थी। अब एक और किसान परिवार की मदद करने के लिए पूर्व दिग्गज क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग आगे आए हैं।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के गांव के एक किसान परिवार के बेटे मुकेश को सड़क हादसे में अपना एक पैर गंवाना पड़ा। ये हादसा पिछले साल यानी 2015 में हुआ था।




virendra-sehwag-bank

Virendra Sehwag Foundation Bank A/C

मुकेश की जान तो बच गई लेकिन पैर चला गया। लेकिन जब उनको आर्टिफिशियल लैग (Artificial Leg) यानी नकली पैर लगवाने की बात आई, तो पता चला कि इसमें बहुत ज्यादा खर्चा है जिसे मुकेश का किसान परिवार किसी भी हालत में नहीं उठा सकता।

ये बात जब पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को पता चली तो उन्होंने मुकेश की मदद के लिए पूरे देश को जोड़ने की मुहिम शुरु कर दी।

सहवाग के फाउंडेश Virendra Sehwag Foundation और FM Fever 104 ने मिलकर अब एक कैंपेन चला रखा है जिसमें लोगों से मुकेश की मदद करने के लिए आगे आने की अपील की जा रही है।

सहवाग ने इस बारे में जैसे ही अपने ट्विटर एकाउंट पर फोटो पोस्ट की, तो लोग मदद को आगे आने लगे। सहवाग ने अपने ट्विटर एकाउंट पर अपने फाउंडेशन का ऑफिशियल बैंक एकाउंट नंबर पर डाला है, जिसमें कोई भी व्यक्ति कोई भी रकम मुकेश की मदद के लिए जमा करा सकता है।

बहुत लोगों ने तो पैसे सहवाग फाउंडेशन में जमा कराने के बाद सहवाग के ट्विटर एकाउंट पर स्लीप के साथ पोस्ट भी किए हैं।

दूसरी तरफ FM Fever 104 लगातार इस मुहिम के बारे में अपने रेडियो स्टेशन पर कैंपेन चला रहा है।

Tag : runsatishrun, virendra sehwag, sehwag foundation, mukesh farmer, radio fm fever 104




खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Tags:
Vandana Singh

वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

    1

1 Comment

  1. 783029 361884Yeah bookmaking this wasnt a risky decision outstanding post! . 685485

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat