LOADING

Type to search

इलाज ताजा ख़बर नई तकनीक

सर्दियों में होने वाला है आपकी फसल पर वूली एफिड (Woolly aphid) का खतरनाक हमला, क्या आपने की बचने की तैयारी? नहीं की, तो पढ़िए कैसे बचाएं वूली एफिड के अटैक से फसल को

Share
woolly-aphid

Hits: 2540

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

अक्टूबर महीना शुरु हो चुका है और अब दिवाली के तुरंत बाद सर्दियों शुरु हो जाएंगी। ये वो वक्त है, जो वूली एफिड (woolly aphid) नाम के एक खतरनाक कीट को अपना खानदान तेजी से बढ़ाने और फसलों पर ज्यादा ताकत के साथ हमला करने के लिए सबसे बढ़िया माहौल और मौसम देता है।




ये सर्दियों में शुरु में फसलों पर दिखाई नहीं देते, लेकिन अप्रैल महीने के आते आते फसलों पर दिखाई देने लगते हैं। वूली एफिड (woolly aphid) अंडे नहीं देता बल्कि सीधे बच्चे पैदा करता है। गर्मियों में यह रोजाना 15 से 20 बच्चे पैदा करता है जबकि सर्दियां शुरु होने से लेकर मार्च तक ये बहुत धीमी गति से 1-2 बच्चे ही पैदा करता है।

लेकिन मई और जून का महीना आते ही ये बहुत तेजी से बढ़ता है और फिर अक्टूबर में तेजी से बच्चे पैदा करने लगता है। बस यही वक्त होता है जब ये फलों के बाग में हमला करने लगता है। तापमान अगर 18-20 डिग्री तक चला गया तो इसका हमला बहुत ज्यादा असरदार होता है यानी फसल को काफी नुकसान होता है।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान




अगर सूखा मौसम है तो फिर यह पौधे की बीमों और टहनियों पर अटैक करता है।

अक्टूबर महीने के अंत या फिर नवम्बर के शुरुआती दिनों के बीच वूली एफिड कीट, पेड़ों के तनों में चला जाता है।

किस पौधो या फसलों पर होता है इसका ज्यादा असर

आमतौर पर वूली एफिड का अटैक सबसे ज्यादा सेब के पेड़ों और पौधशालाओं पर होता है।

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”1200″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

वूली एफिड भारत में कब और कहां से आया।

वूली एफिड एक विदेशी कीट है जो पिछले करीब सवा सौ साल से भारत की फसलों को नुकसान पहुंचा रहा है। 1889 में ये सबसे पहले विदेश से लाई गई सेब की एक सामग्री के साथ तमिलनाडु के कोन्नूर क्षेत्र में पहुंचा। उसके बाद ये तेजी से पूरे देश में फैल गया।




कैसे करें बचाव

  1. 200 लीटर पानी में 700 मिली मीटर क्लोरोपाइरीफॉस कीटनाशक को अच्छे से मिलाकर घोल बना लें। फिर इस घोल में से 25 से 30 लीटर घोल अलग बर्तन में निकाल लें और जिस पेड़ पर वूली एफिड कीट दिखाई दे रहे हैं उसके तने के चारों तरफ एक घेरा बनाकर डाल दें।
  2. ध्यान रहे कि अगर बरसात हो चुकी है और उसके तुरंत बाद आप इस घोल को डाल रहे हैं तो ये अच्छा है क्योंकि यह घोल वूली एफिड के साथ साथ बाकी कई और बिमारियों को भी नियंत्रित कर लेता है।
  3. अप्रैल से अगस्त के महीने तक वूली एफिड (woolly aphid) से बचने के लिए बाग-बगीचों में कीटनाशकों का इस्तेमाल ना करें। अगर ऐसा किया, तो वूली एफिड (woolly aphid) तो मरेंगे नहीं बल्कि इसके उलट माइट जैसी अन्य बिमारियों का हमला शुरु हो जाएगा।
  4. बाग के पेड़ों से फल तोड़ने के बाद टहनियों और तनों पर लगे वूली एफिड को सही ढंग से कीटनाशक का छिड़काव कर खत्म किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें – बाकी कई और कीटों के फसलों पर हमले से कैसा बचा जाएं




खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

श्रीकांत अब खेती से कैसे कमाते है साल में 9 करोड़ रूपये SHRIKANT KAMATE HAIN SAAL MEN 9 KAROD RUPAYE

श्रीकांत अब खेती से कैसे कमाते है साल में 9 करोड़ रूपये SHRIKANT KAMATE HAIN SAAL MEN 9 KAROD RUPAYE

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Tags:
Vandana Singh

वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

    1

15 Comments

  1. Like September 9, 2018

    Like!! Great article post.Really thank you! Really Cool.

    Reply
  2. It is in reality a great and useful piece of info. Thanks for sharing. 🙂

    Reply
  3. ปั้มไลค์ October 10, 2018

    Perfectly composed articles , thankyou for information. 🙂

    Reply
  4. anal January 10, 2019

    313831 967085Some genuinely good and utilitarian info on this web site , likewise I feel the layout has great capabilities. 55937

    Reply
  5. gvk bio company information February 6, 2019

    342617 46515Spot ill carry on with this write-up, I truly feel this web site requirements a terrific deal more consideration. Ill oftimes be once more to see far more, numerous thanks that info. 796061

    Reply
  6. gvk biosciences February 6, 2019

    25136 136883What a lovely blog page. I will certainly be back again. Please maintain writing! 466727

    Reply
  7. Turkish Escorts February 9, 2019

    166330 863923Thanks so much for yet another post. I be able to get that kind of information information. friend, and exactly. 992300

    Reply
  8. Miranda Mills February 20, 2019

    57809 206926Wow, suprisingly I never knew this. Keep up with excellent posts. 108494

    Reply
  9. 364376 940833Typically I dont read article on blogs, but I would like to say that this write-up extremely compelled me to try and do so! Your writing style has been amazed me. Thanks, quite wonderful post. 964505

    Reply
  10. Kimberley Misemer March 4, 2019

    Even though I never thought of doing email marketing, this site completely changed the way I run my business now. Never seen emails going that cheap in my life: http://bit.ly/emails4less

    Reply
  11. 24642 981620This really is a superb weblog, would you be involved in doing an interview about just how you designed it? If so e-mail me! 448402

    Reply
  12. Doghouse Dave April 2, 2019

    248346 378403Some truly nice stuff on this web site , I it. 330785

    Reply
  13. Paola Famageltto April 5, 2019

    Make money online by watching ads. High Payouts! https://adblast.alternet.com/r/viewmore

    Reply
  14. Kimber Erle April 25, 2019

    Wonderful blog! I found it while searching on Yahoo News. Do you have any suggestions on how to get listed in Yahoo News? I’ve been trying for a while but I never seem to get there! Thank you

    Reply
  15. 785564 795793Real informative and wonderful anatomical structure of topic material , now thats user pleasant (:. 623767

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *