Press "Enter" to skip to content

26 साल के लकड़े ने फ्रांस में 36 लाख रूपए की नौकरी छोड़ खेती में क्या कमाल किया, जानिए पूरी कहानी

Hits: 14694

छत्तीसगढ़ का पिछला जिला है जशपुर। पिछले जिले के किसी युवा लड़के को दुनिया के सबसे खूबसूरत देशों में से एक फ्रांस में अगर नौकरी मिल जाए, क्या भला वो छोड़ेगा। आमतौर लोगों की राय होगी कि वो बिल्कुल नहीं छोड़ेगा, बल्कि अपना घर परिवार छोड़कर वहां बस जाएगा। लेकिन बदलते भारत की युवा ऐसा नहीं सोचते। समर्थ भी उन्हीं में से एक हैं।

फ्रांस और बेल्जियम में पढ़ाई करने के बाद उनको वहां नौकरी मिली 36 लाख रूपए सालाना यानी महीने के 3 लाख रूपए। लेकिन उन्होंने कुछ समय बाद वो नौकरी छोड़ दी और वापस भारत आ गए।




भारत आकर उन्होंने जो कुछ किया, वो बाकी सभी लोगों के लिए एक मिसाल है।

विदेश में क्या किया।

समर्थ ने विदेश में Nano Technology में पोस्ट ग्रेजुएश किया, फ्रांस और बेल्जियम में 3 साल तक सोलर सेल के थर्ड जनरेशन पर रिसर्च की और कार्बन नैनो ट्यूब पर अतंर्राष्ट्रीय स्तर पर शोध भी किया।




वापस आकर जशुपर में क्या किया

सब्जी की खेती, डेयरी फार्मिंग, केले का उत्पादन से लेकर गोबर गैस के उत्पादन तक समर्थ सबकुछ करने लगे हैं। जब वो विदेश से वापस आए, तो उन्होंने 10-12 एकड़ की पुश्तैनी खेती की जमीन पर बसे पहले केले की खेती शुरु की। फिर मिर्च भी करने लगे। इसे उनको हर सीजन में मोटी कमाई होने लगी। रात में लैपटॉप पर रिसर्च करते और दिन में खेती। 

उन्होंने डेयरी भी बना रखी है। उन्होंने दूध उत्पादन का ऐसा सिस्टम तैयार किया कि अब उनको 200 से 230 लीटर दूर रोज का उत्पादन मिल जाता है।

डेयरी की गाय-भैंसों के लिए चारे का इंतजाम करने के लिए उन्होंने अपने खेत में एक खास तरह की फसल लगते हैं। इससे दो फायदे होते हैं। पहला उनको अपने जानवरों के लिए अच्छी क्वालिटी का चारा मिल जाता है और दूसरा इस फसल को उनके खेती की मिट्टी में नाइट्रोजन की मात्रा बढ़ाने में काफी मदद मिलती है।

सबको साथ लेकर तरक्की करना ही समर्थ की सफलता का मूल मंत्र है। विदेश से वापस आने के बाद समर्थन ने अपने खेत में ही गोबर गैस बनाने का प्लांट लगा दिया। इससे पैदा होने वाली गैस को वो खुद तो इस्तेमाल करते ही हैं साथ बाकी दूसरे लोगों को भी खाना बनाने के गोबर गैस मुफ्त में देते हैं।




खेती में समर्थ का ज्ञान

खेती में खुद तो समर्थ पैसा कमा ही रहे हैं साथ ही अपने ज्ञान को बाकी किसानों के साथ बांटकर दूसरों का भी भला कर रहे हैं।

समर्थ के मुताबिक अगर खेत में सब्जी उगाते हैं और आपको सब्जियों पर सीकड़ों के हमले का डर रहता है तो आप खेत की मेड़ पर सरसों लगा दो। सरसों की वजह से कीड़ों का सब्जियों पर अटैक होना बंद या काफी कम हो जाएगा।

समर्थ का कहना है कि इसी तरह अगर आप भिंडी के फसल के बीच गेंदे के पौधे लगा दें, तो भी कीडों का अटैक नहीं होगा या फिर असर कम हो जाएगा क्योंकि गेंदे के फूल देखकर कीड़े गेंदे पर जाकर बैठ जाएगें।




ये भी पढ़िए – और किस किस ने देश-विदेश में मोटी कमाई वाली नौकरियां खेती के लिए छोड़ीं हैं

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

samarth jain kaun hai, samarth jain from jashpur, samarth jain organic kheti, samarth jain organic farming, samarth jain left job in france for farming




[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

matka khad kaya hoti hai, matka khad kaise banti hai

बहुत ही आसानी से सिर्फ 1 हफ्ते में मुफ्त में घर पर ही बनाएं ‘मटका खाद’, मटका खाद के 6 बड़े फायदे, मटका खाद से बढ़ता है उत्पादन और घटती है लागत (Video देखें)

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

खेती की अच्छी ख़बरें फेसबुक पर पाने के लिए Like करें

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...
WhatsApp chat