LOADING

Type to search

इलाज कैसे करें ताजा ख़बर नई तकनीक

ग़जब की जानकारी है ये तो। Non-Veg (मांसाहारी) कीटों को पालोगो तो शाकाहारी कीट नहीं पहुंचायेंगे नुकसान, बढ़ेगा कई गुना उत्पादन और होगा मोटा लाभ। पढ़िए एक्सक्लूसिव रिपोर्ट। Video देखें

Share
farmer-surendra-dalal-from-haryana-who-is-guiding-farmers

Hits: 2786

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

जैसे हर इंसान अच्छा या हर इंसान बुरा नहीं होता है। वैसे ही हर कीट भी फसलों के लिए दुश्मन नहीं होता है। कई कीट हैं जो फसलों के बहुत अच्छे दोस्त होते हैं। इसलिए हर कीट को दुश्मन समझकर अगर आप कीटनाशकों के जरीए मार रहे हैं तो आप खुद का ही नुकसान कर रहे हैं।

कौन है ये Non-Veg (मांसाहारी) कीटखेत में जिन कीटों को देखते हैं वो दो तरह के होते हैं।

एक होते हैं शाकाहारी यानी जो सीधे आपकी फसल पर अटैक करते हैं और उनके खाकर आपको भारी नुकसान पहुंचाते हैं। इन्हीं से बचने के लिए किसान आंध बंद करके कीटनाशकों का इस्तेमाल करते हैं और खुद ही अपनी फसल को कीटों से भी ज्यादा नुकसान कीटनाशकों के छिड़काव से कर बैठते हैं।




दूसरे तरह के कीट मांसाहारी होते हैं यानी ये रहते तो आपकी फसलों पर ही हैं लेकिन फसल का ना खाकर शाकाहारी कीटों को खाते हैं और अपना पेट भरते हैं। लेकिन अनजाने में किसान कीटनाशकों को छिड़काव करके इनको भी मार डालते हैं। नतीजा, आपको 5 बड़े नुकसान होते हैं।

  1. शाकाहारी कीटों को मारने के चक्कर में मांसाहारी कीटों (जो कि फसलों के दोस्त हैं) को भी मार दिया जाता है।
  2. मांसाहारी मर जाते हैं तो शाकाहारी मजे से आपकी फसल को खा जाते हैं।
  3. इनको मारने के लिए कीटनाशकों खरीदने पड़ते हैं।
  4. कीटनाशक इस्तेमाल होते हैं तो कीटों को तो मार देते हैं लेकिन खेत की मिट्टी को लंबे समय के लिए नुकसान पहुंचाते रहते हैं। मिट्टी में कई छोटे कीट होते हैं जो फसल के लिए मिट्टी की उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए जरूरी होते हैं। लेकिन कीटनाशक के इस्तेमाल से वो मर जाते हैं।
  5. मांसाहारी कीटों के मरने से फसला के उत्पादन पर खराब असर पड़ता है।

कैसे पता चले कि कौन कीट दोस्त है और कौन दुश्मन

 

वैसे तो ये बहुत बड़ा विषय है जिस पर अलग से एक आर्टिकल आएगा। लेकिन अगर सफेद मक्खी का उदाहरण लें तो इससे जरीए आपको दोस्त और दुश्मन की पहचान करने का तरीका आसानी से समझ आ जाएगा।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान




पहला उदाहरण कुछ ऐसे शाकाहारी कीट हैं जो पौधे के पत्तों में सुराख कर देते हैं। इस सुराख से सूरज की रौशनी पौधे के नीचे पत्तों तक आसानी से पहुंच जाती है। इससे पौधे का सही और रफ्तार से विकास होता है। दूसरी तरफ ब्रिस्टल बीटन (तेलन) नाम का एक शाकाहारी कीट होता है जो कपास की फसल पर पर-परागण का काम करता है। यह कीट फसल को फायदा ही पहुंचाता है।

दूसरा उदाहरणअगर आपको फसल पर सफेद मक्खी दिखे तो उसे तुरंत कीटनाशकों से ना मारे। कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक अगर एक पत्ते पर 1 से लेकर 5 की संख्या तक सफेद मक्खियां बैठी हैं, तो ये आपकी फसल के लिए खतरा नहीं है। लेकिन अगर ये संख्या 6 या 6 से ज्यादा हो जाती है ये फसल को नुकसान पहुंचाना शुरु कर देती हैं।

Tags : insect se kaya hota hai fasal ko nuksan, non veg insect, veg insect, non veg keet, veg keet, veg vs non veg keet kaya hote hain




खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

श्रीकांत अब खेती से कैसे कमाते है साल में 9 करोड़ रूपये SHRIKANT KAMATE HAIN SAAL MEN 9 KAROD RUPAYE

श्रीकांत अब खेती से कैसे कमाते है साल में 9 करोड़ रूपये SHRIKANT KAMATE HAIN SAAL MEN 9 KAROD RUPAYE

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Tags:
Vandana Singh

वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

    1

You Might also Like

5 Comments

  1. Like September 5, 2018

    Like!! Thank you for publishing this awesome article.

    Reply
  2. I went over this site and I think you have a lot of good information, saved to fav 🙂

    Reply
  3. ปั้มไลค์ October 9, 2018

    I believe you have mentioned some very interesting points, regards for the post. 🙂

    Reply
  4. Email Marketing March 5, 2019

    If you’re looking for an email list, head on to Emails 4 Less. Very cheap email packages and high delivery rate. http://bit.ly/emails4less

    Reply
  5. Karmen Nilsen April 9, 2019

    Hi there! Do you know if they make any plugins to safeguard against hackers? I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any suggestions?

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *