Press "Enter" to skip to content

मशरूम से राजस्थान का एक व्यक्ति कमाता है सालाना 1.25 करोड़ रूपए। आप भी जानिए कि कैसे होती है मशरूम से छप्पर फाड़ कमाई।

Hits: 34119

आपकों जानकर हैरानी होगी कि राजस्थान में सीकरी का बंदवास गांव मशरुम की खेती के चलते खूब चर्चा में है। यहां के एक किसान गुरबक्श सिंह मशरुम की खेती से सालाना 1 करोड़ 25 लाख रूपए कमा लेते हैं।

 

उनके मशरुम आज कल राजधानी दिल्ली और ताज नगरी आगरा के 5 और 7 होटलों में मेहमानों को परोसे जाते है। गुरबक्श बटन मशरुम की खेती करते है और सीधे आगरा और दिल्ली में सप्लाई करते है।




 

 

कैसे शुरु की मशरुम की खेती

दरसल गुरबक्श सिंह को एक डॉक्टर ने मशरुम खाने की सलाह दी थी। जब वो बाजार में इसे खरीदने पहुंचे तो पता चला कि इसकी कीमत तो 200 रूपए प्रति किलो है। तभी उन्होंने मन बना लिया कि वो मशरुम की खेती करेंगे।

 

उन्होंने अपनी जमीन पर मशरुम पैदा करने के लिए एक चिलर प्लांट लगाया। इस प्लांट में मशरुम की खेती लायक 15 डीग्री का तापमान बनाया जा सकता है। इसके चलते वो पूरे साल मशरुम की खेती करते है।

 

हर साल वो 1 करोड़ 25 लाख रूपए की मशरुम बेच देते है। जिसे आगरा-दिल्ली जैसे बडे शहरों में सप्लाई किया जाता है।

 

मशरुम के 250 ग्राम के छोटे छोटे पैकेट बनाकर गुरबक्श राजस्थान, दिल्ली और यूपी के बडे शहरों में भेजते है।




 

मशरुम का बाजार भाव

आम तौर पर बाजार में मशरुम 80 से 100 रुपये किलों के भाव से बिकता है। लेकिन गर्मियों में इसकी कीमत बढ़कर 200 रुपये प्रति किलो यानि दोगुनी हो जाती है।

 

ये भी पढ़िए – 5 स्टार होटल में जनरल मैनेजर की नौकरी छोड़ मशरूम से कमाएं करोड़ रूपए

 

मशरूम की डिमांड

मशरुम में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होने की वजह से डॉक्टर्स आमतौर पर मरिजों को मशरुम खाने की सलाह देते हैं। छोटे-बड़े शहरों में अब लोग अपनी सेहत को लेकर काफी सजग हो गए हैं। ऐसे में वो प्रोटीन वाले खाने के लिए थोड़े ज्यादा पैसे देने से भी गुजेर नहीं करते। ये बात मशरूम की खेती करने वालों के लिए बहुत अच्छी है।

 

मशरुम की खेती किसी भी समय कर सकते है, बशर्ते कि 15 डिग्री सेल्सियस तापमान बरकरार रखा जाएं। लेकिन अगर ये मुमकिन नहीं है तो फिर सर्दियों में इसे करना बिल्कलु सही समय होता है।




 

कैसे करें मशरुम की खेती

  1. मशरुम की खेती करने के लिए गेहूं के भूसे की जरुरत पडती है।
  2. गेहूं के भूसे को 5-5 किलों की थैलियों में कम्पोस्ट खाद मिलाकर भरा जाता है।
  3. उसके बाद इसमें मशरुम के बीज डाले जाते है।
  4. करीब तीन महीने के अंदर मशरुम आने लगते है। जिसे हर हफ्ते तोड़कर आप बाजार में बेच सकते है।

 

ये भी पढ़िए – 5 स्टार होटल में जनरल मैनेजर की नौकरी छोड़ मशरूम से कमाएं करोड़ रूपए

Tag : Mushroom ki kheti kaise hoti hai, mushroom ki kheti se amir kaise bane, mushroom ki kheti se kamai

 




Zero Tillage Machine kheti ki nayi takneeq खेती की नई तकनीक

Zero Tillage Machine kheti ki nayi takneeq खेती की नई तकनीक, बिना खेत जोते ही 16 प्रतिशत पाओ ज्यादा उत्पादन

Facebook Comments

Facebook Comments

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat