Press "Enter" to skip to content

बाइक-कार में इस्तेमाल होने वाला ग्रीस बचा सकता है फसल को कीटों के हमले से। घर पर बनाएं सिर्फ 15 रूपए में। कीटनाशकों का खर्चा बचेगा और खेती की उत्पादन क्षमता भी बढ़ेगी।

Hits: 15651

आपने बड़ी मेहनत से खेत जोता, बुवाई की और फसल लहलगाने लगी। फिर फसल कटने का वक्त नजदीक आने से पहले ही अचानक कीटों का हमला हुआ और फसल को भारी नुकसान हुआ। कुछ ऐसा ही होता है किसानों के साथ।

किसान भी इस समस्या के समाधान के लिए हर बार की तरह रासायनकि दवाओं का छिड़काव करते हैं और सोच लेते हैं कि अब उनकी फसल बच गई। फसल तो बच गई लेकिन खेत की मिट्टी की उत्पादन क्षमता घट गई। ऐसे में बात वही हुई। एक तरफ नुकसान बचा तो दूसरी तरफ नुकसान हो गया।

सवाल ये कि अब क्या रास्ता है इस समस्या का। इस समस्या का बेहतरीन इलाज है स्टिकी ट्रैप (Sticky Trap) के रूप में।

स्टिकी ट्रैप (Sticky Trap) क्या है।

स्टिकी ट्रैप एक शीट होती है जिसका एक चिपचिपा लेप लगा होता है। जब कीटों का फसल पर हमला होता है तो इस चिपचिपी शीट पर कीट चिप जाते हैं और मर जाते हैं।

स्टिकी ट्रैप कई रंगों में उपलब्ध होती है। इसे बाजार से भी खरीदा जा सकता है और घर पर भी बनाया जा सकता है।

स्टिकी ट्रैप के इस्तेमाल से कीटो के हमले से फसल को होने वाले नुकसान को आसानी से रोका जा सकता है।

स्टिकी ट्रैप (Sticky Trap) क्या फायदे हैं।

इससे कीटनाशकों पर होने वाला बड़ा खर्च बच जाता है।

कीटनाशकों के अंधाधुंध और लगातार इस्तेमाल से खेत की मिट्टी की उपजाऊ क्षमता कम हो जाती है। लेकिन स्टिकी ट्रैप के इस्तेमाल से मिट्टी की उपजाऊ क्षमता को कोई नुकसान नहीं होता।

कीटों की वजह से फसल को होने वाले नुकसान को 40 से 50 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

घर पर कैसे बनाएं स्टिकी ट्रैप (Sticky Trap)

  • स्टिकी ट्रैप आमतौर पर 4 अलग अलग रंगों नीला, पीला, काला और सफेद रंग में बनाई जाती है। बाजार में 40 से लेकर 100 रूपए के बीच एक स्टिकी ट्रैप मिलती है। जबकि घर पर एक स्टिकी बनाने की लागत करीब 15 रूपए आती है।
  • इसे बनाने के लिए दफ्ती, टीन या प्लास्टिक की शीट लें। इसकी लंबाई 1.5 लंबी और चौड़ाई 1 फीट होनी चाहिए। हार्ड बोर्ड या कार्ड बोर्ड से भी इसे बनाया जा सकता है।
  • बोर्ड को लटकाने के लिए 2 छेट कर दें
  • फिर इस टुकड़े पर सफेद ग्रीस लगा दें
  • इसके बाद इस बोर्ड को एक डोरी के साथ एक बांस से बांध दें। इसे फसल की ऊंचाई से 1 फुट और ऊंचाई पर बांधे ताकि जब कीटों का हमला हो, तो कीटों के रास्ते में ये स्टिकी ट्रैप आ जाए और वो इस ट्रैप से चिपककर मर जाएं।
  • 1 एकड़ में 6 से 8 स्टिकी ट्रैप लगाने की जरूरत होती है।
  • इनको साफ करके दोबारा इस्तेमाल लाया जा सकता है। लेकिन अगर स्टिकी ट्रैप, दफ्ती और गत्ते से बनाया गया है तो यह एक बार के इस्तेमाल के बाद ही खराब हो जाता है।
  • टीन, प्लास्टिक और हार्ड बोर्ड के बने स्टिकी ट्रैप को गर्म पानी से अच्छे से साफ करके दोबारा ग्रीस लगाकर इस्तेमाल में लाया जा सकता है।
  • किस रंग की स्टिकी ट्रैप (Sticky Trap) किस तरह के कीट के लिए सही है।
  • वैज्ञानिकों की सलाह के मुताबकि इसे फसल की ऊंचाई से 1 फुट और ऊंचाई पर लगाया जाना चाहिए। साथ ही खेत में कई रंगो की स्टिकी ट्रैप लगानी चाहिए। ताकि यह अलग अलग रंगों की तरफ आकर्षित हने वाले कीटो को अपने जाल में फंसा सके।

पीला रंग –

अगर आपने किसी सब्जी की फसल लगाई है तो इस पर सफेद मख्खी, लीफ माइनर और एफिड के हमले की संभावना रहती है। इन कीटो को स्टिकी ट्रैप में फंसाने के लिए पीले रंग की शीट का इस्तेमाल करना सही होगा।

नीला रंग –

अगर आपने फूलों और धान की खेती कर रखी है, तो थ्रपिस कीट का हमला हो सकता है। थ्रपिस कीट कुछ सब्जियों पर भी हमला करते हैं। ऐसे में नीले रंग की स्टिकी ट्रैप शीट लगाना सही होगा।

सफेद रंग –

फलों की अगर आपने खेती कर रखी है तो फिर आपको सफेद रंग की स्टिकी ट्रैप का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि फलों की फसल पर बग कीट और फ्लाई बीटल कीट का हमला आमतौर पर होता है।

काला रंग –

टमाटर की खेती को सबसे ज्यादा खतरा अमेरिकन पिन वर्म से होता है। इसे रोकने के लिए काले रंग स्टिकी ट्रैप लगानी चाहिए।

Sticky trap kaya hai? sticky trap kaise banate hain home par? sticky trap kahan se kharidein

 

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

खेती की अच्छी ख़बरें फेसबुक पर पाने के लिए Like करें

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...
WhatsApp chat