मिर्च को वायरस से कैसे बचाएं? मिर्च का नीम कनैक्शन

इंटरव्यू इलाज कैसे करें ताजा ख़बर

नीम के काढ़े से मिर्च पर नहीं लगेगा वायरस

मध्य प्रदेश में मिर्च की खेती 1 लाख 54 हजार 700 हेक्टेयर में हो रही है। देश के कई और राज्यों में मिर्च की खेती बड़ी तादाद में की जाती है।

अकसर देखने में अाता है कि जरा सी गलती होने पर पर्ण कुंचन वायरस की चपेट में मिर्च आ जाती है। नतीजा फसलें प्रभावित होती है और आर्थिक नुकसान होता है।

खरगोन के कृषि विज्ञान केंद्र वैज्ञानिक एसके त्यागी ने बताया किसानों को रोपाई से पहले खेत की गहरी जुताई और फसल पर नीम के काढ़े का छिड़काव करना चाहिए। ऐसा करने से कुंचन वायरस इंडिया यानी बेगामु वायरस नहीं आएगा। 15 जुलाई तक किसान रोपाई कर सकते हैं।




पर्ण कुंचन से कैसे बचाएं

नीम की नींबोली का काढ़ा (750 ग्राम निंबोली) प्रति 15 लीटर पानी में मिलाएं। फिर 15 लीटर पानी में नीम तेल 75 एमएल को छिड़कें। फिप्रोनील 30 एमएल के साथ 50 ग्राम सल्फेक्स को 15 ली. पानी में मिलाएं। 15 लीटर पानी में एसिटामीप्रिड 3 ग्राम का छिड़काव करें।




कैसे करें

केंचुआ खाद (50 क्विंटल प्रति हेक्टेयर) या खेत में गोबर खाद (250-300 क्विंटल) बोवनी से पहले डालें। रासायनिक उर्वरक 120:80:80 किलो प्रति हेक्टे. नत्रजन, स्फूर और पोटाश दें।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]

Leave a Reply

Your email address will not be published.