LOADING

Type to search

ताजा ख़बर सावधान

सावधान ! कहीं आप भी ना बन जाए किसान कॉल सेंटर के नाम पर इनके शिकार…

Share

Hits: 3710

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

पिछले दिनों हमने खबर पोस्ट की थी किस तरह महिलाओं का एक गैंग देहातों में अखबारों में विज्ञापन के जरिए किसानों को डीडी किसान के नाम पर करोड़ों की चपत लगा चुका है। अब उसी तरह की किसानों को सावधान करने वाली एक और खबर है। किसान कॉल सेंटर के नाम पर भी अब किसानों को करोड़ों की चपत लगाई जा रही है।

किसानों के हित के लिए काम करने वाली संस्था ‘प्रवाह फाउंडेशन’ ने खुलासा किया है कि बेरोजगार किसानों को Kisan Call Centre खोल कर देने के नाम पर करोड़ों की ठगी हो रही है।




‘प्रवाह फाउंडेशन’ के मुताबिक सरकार द्वारा चलाई जा रही राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के नाम पर कुछ लोग  करोड़ों के गोरखधंधा का काम कर रहे हैं।

दरअसल इन धोखेबाज लोगों ने http://rkvy.nic.in नाम की इस सरकारी वेबसाइट की हूबहू नक़ल कर एक दूसरी वेबसाइट http://www.rkvycenter.in/  बनाई। यह वेबसाइट इतनी सही ढंग से डुप्लीकेट तैयार की गई है कि कोई भी देखकर धोखा खा जायेगा। नागपुर का एक किसान अमोल बैतूल भी इस जालसाजी का शिकार हुआ है।




अमोल ने ही प्रवाह फाउंडेशन को बताया कि यह धोखेबाज लोग बेरोजगार किसानों को फंसाने के लिए पहले तो किसी स्थानीय अखबार में रोजगार देने कराने का विज्ञापन देते है। और फिर जब कोई किसान इनको फोन करता है तब ये उससे रजिस्ट्रेशन के तौर पर 2450 रुपये और सीट कन्फर्म करने के नाम पर 12500 रुपये लेते है।

इस फर्जीवाड़े का शिकार नागपुर के ही किसान अर्जुन मिश्रा भी हुए है। अर्जुन के मुताबिक इन लोगों ने उसके जैसे कई और लोगों को भी इसी तरह से फंसाया है।




प्रवाह फाउंडेशन ने इस बात की शिकायत प्रधानमंत्री कार्यालय और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय तक पंहुचा दी है। गुहार लगाई है कि मामले को गंभीरता से लिया जाये और जल्द से जल्द किसानों के साथ धोखाधड़ी करने वाले लोगों को पकड़ा जाए, वरना ये लोग

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

कई और लोगों को चूना लगाकर चंपत हो जायेंगे।

 

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

नौकरी छोड़ किसान आदेश कुमार कर रहे हैं शतावर की खेती कमा रहे हैं लाखों naukari chod kmate hain lakhon

नौकरी छोड़ किसान आदेश कुमार कर रहे हैं शतावर की खेती कमा रहे हैं लाखों naukari chod Adesh kumar kma rahe hain lakhon

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Tags:
Vandana Singh

वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

    1

4 Comments

  1. Like September 13, 2018

    Like!! Thank you for publishing this awesome article.

    Reply
  2. Likely I am likely to save your blog post. 🙂

    Reply
  3. ปั้มไลค์ October 11, 2018

    I believe you have noted some very interesting details, thankyou for the post. 🙂

    Reply
  4. Adriane Hoefler March 5, 2019

    Admiring the persistence you put into your site and in depth information you present. It’s great to come across a blog every once in a while that isn’t the same unwanted rehashed information. Great read! I’ve bookmarked your site and I’m adding your RSS feeds to my Google account.

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat