कैसे होती है मलेरिया की दवा में इस्तेमाल होने वाली आर्टिमिशिया की खेती

कैसे करें ताजा ख़बर नई तकनीक सरकारी योजना

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

पिछले दिनों हमने एक ऐसी फसल पर स्टोरी पोस्ट की थी, जिसका इस्तेमाल मलेरिया की दवा बनाने में बहुत ही ज्यादा होता है। अब इस फसल की पैदावार सीमैप (CIMAP) के जरिए देश में तेजी से बढ़ रहा है, क्योंकि किसानों को इस फसल में परंपरागत फसल के मुकाबले कई गुना ज्यादा लाभ मिलता है। उस खबर के बाद करीब 30 हजार लोगों ने वॉट्सअप, फेसबुक, ट्विटर, ईमेल के जरिए देश भर से इस ख़बर की पूरी जानकारी मांगी थी। विस्तार से वो रिपोर्ट अब यहां पेश है।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।




टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

देश में आर्टिमिशिया की कितनी मांग है

सीमैप के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ.संजय कुमार के मुताबिक देश में सीमैप ने WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) से मांग आने के बाद, आर्टिमिशिया की खेती साल 2005 में करवाना शुरु की थी। फिलहाल भारत में जितनी इस फसल की मांग है उसका करीब 25 प्रतिशत ही सप्लाई पूरी हो पाती है। बाकी की कमी केन्या, चाइना, तंजानिया जैसे देशों से पूरी की जाती है।

फसल कब होती है – वैसे तो इस फसल का समय मार्च से जून होता है। लेकिन इसे और बेहतर ढंग से समझने के लिए इसे दो हिस्सों में समझें। आपका खेत अगर फरवरी मे खाली होता है यानी अगली फसल के लिए फरवरी में खाली होता है, तो दिसम्बर के अंत में नर्सरी लगानी होगी। अगर आपका खेत मार्च में खाली होगा, तो जनवरी के मध्य में नर्सरी लगानी होगी। यानी पहले इस फसल की नर्सरी बनानी होती है और फिर नर्सरी से पौधा खेत में लगाना होता है। ये ठंडे क्षेत्रों की फसल है।




नर्सरी के लिए कितनी जगह चाहिए

नर्सरी के लिए आप या तो अपने खेत में थोड़ी जगह निकाल सकते हैं या फिर कोई और खाली जगह ढूंढ सकते हैं। 1 हेक्टेयर में कुल 66 हजार पौधे लगते हैं। जिनकी नर्सरी बनाने के लिए आपको 500 वर्ग मीटर की जरूरत होगी। नर्सरी को आप घर की छत, खाली प्लॉट या खेत में कहीं भी बना सकते हैं।

लागत और कमाई कितनी होगी और बीज कहां से मिलेगा

लागत – इसकी लागत करीब 10 से 12 हजार रूपए प्रति एकड़ आती है। आर्टिमिशिया का बीज आपको सीमैप से मुफ्त मिलता है, इसलिए आपको ये लागत बाकी फसलों के मुकाबले काफी कम पड़ती है।

कमाई – कंपनियों पौधे की सिर्फ पत्तियां लेती हैं। ऐसे में एक एकड़ में करीब 30 कुंटल पत्तियां निकलती हैं जिन्हें कंपनी करीब रूपए 33 से 35 प्रति किलो के हिसाब से लेती है। यानी एक एकड़ में करीब 1 लाख का उत्पादन होता है। जबकि लागत आती है करीब 10-12 हजार रूपए। प्रति एकड़ लागत के करीब 10 गुना तक की कमाई हो सकती है।

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”1500″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

पानी कितना देना होता है।

इस फसल को पानी की अच्छी खासी जरूरत होती है। सीमैप के प्रमुख वैज्ञानिक ( Principal Scientist) डॉ. ए.के.गुप्ता के मुताबिक ‘कुल 6-7 बार पानी देना होता है यानी करीब हर 10-12 दिन में पानी की जरूरत होती है। लेकिन ध्यान रहे जहां डूब क्षेत्र हैं या फिर पानी खेतों में अपने आप घुस आता है वहां ये फसल नहीं लग सकती।

किससे है खतरा

अच्छी बात ये है कि इस फसल को जानवरों से कोई खतरा नहीं है क्योंकि कोई भी जानवर इस फसल को खाना पसंद नहीं करता। ध्यान रहे कि इस फसल को अगर किसी से नुकसान हो सकता है तो वो है पाला। सिर्फ पाला ही आपके पौधे को नुकसान पहुंचा सकता है।




क्या छोटे किसान इस फसल को कर सकते हैं।

सीमैप के जरिए किसानों से इस फसल का कॉन्ट्रैक्ट करने वाली कंपनियां एक बात पर खासतौर पर ज्यादा गौर करती है। वो ये कि उनको इस फसल को आपके खेत से लाने ले जाने में कितनी लागत आएगी। उनके नजदीकी सेंटर से कितनी दूरी पर है आपका खेत। ऐसे में अगर आप 1-2 एकड़ में ही खेती करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि आप किसानों का एक समूह बनाकर इस फसल को करें, ताकि कंपनी को भी लागत कम पड़े और आप भी आर्टिमिशिया की लाभकारी खेती कर सकें।

किससे जरिए कर सकते हैं आर्टिमिशिया की खेती

भारत में सिर्फ सीमैप (CIMAP) के जरिए ही आर्टिमिशिया की खेती हो सकती है। क्योंकि CIMAP ही आपको इसके बीज मुफ्त में उपलब्ध करवाता है। सीमैप ने ही इसकी सभी तक की सभी 4 प्रजातियों को विकसित किया है। सीमैप सरकारी संस्था हैं।

कैसे होता है कंपनी के साथ कॉन्ट्रेक्ट

ये जानने के लिए आपको अगली ख़बर को पढ़ना होगा, जिसमें कॉन्ट्रैक्ट के समय से लेकर पैसे मिलने तक की पूरी जानकारी दी गई है। ‘कैसे करें कंपनी के साथ आर्टिमिशिया की कॉन्ट्रैक्ट खेती’ खबर को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। अगर लिंक ना खुले या कोई दिक्कत आए, तो कृपया आप किसानख़बर.कॉम के ताजा खबर सेक्शन में इस खबर को पढ़ सकते हैं।

कैसे और किसको करें संपर्क

यदि आप इस फसल को करना चाहते हैं तो आप सीधे सीमैप में संपर्क कर सकते हैं। सीमैप में संबंधित अधिकारी का नाम और नंबर जानने के लिए कृप्या आप अपना पूरा नाम, आपके शहर, तहसील और गांव का पूरा नाम, आपका मोबाइल नंबर और ये कितने एकड़ खेत में आप आर्टीमिशिया की खेत करना चाहते हैं, ये लिखकर हमको kisankhabar@gmail.com पर ईमेल कर दीजिए। ध्यान रहे, अधूरी जानकारी भेजने पर संबंधित अधिकारी का नाम और नंबर नहीं मिल पाएगा। साथ ही ये भी ध्यान रखें कि वॉट्सअप, फेसबुक, ट्विटर इत्यादि पर भी कोई नंबर शेयर नहीं होगा।

खेती की ख़बरें अब मोबाइल पर पाना और भी हुआ आसान, डाउनलोड करें किसानख़बर की नई एप जिसमें है किसानों की लगभग हर समस्या का समाधान

इस खबर को नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके लाइक जरूर करें।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

बजट में किसानों को क्या मिला और क्या मिला, देखिए हिन्दी भाषा में बजट लाइव

बजट में किसानों को क्या मिला और क्या मिला, देखिए हिन्दी भाषा में बजट लाइव #budget2019 #budget #liveKisanKhabar.com दुनिया की एकमात्र ऐसी साइट है जहां पर खेती की सिर्फ अच्छी ख़बरें ही आती हैं। जहां खेती में सफल किसानों की ना केवल सफलता की कहानियां बताई जाती हैं बल्कि आपको उनसे मिलने का मौका भी दिया जाता है ताकि आप भी उनकी तरह लाखों की कमाई वाली खेती करना सीख सकें।इसके अलावा हर किसान की 14 समस्याओं का समाधान भी आपको सिर्फ और सिर्फ इसी साइट पर मिलेगा। --------------------------------------------------------------------------------------------------------- Kisan Khabar Live | New Farming Technology | Kheti New machine | Mandi Rates Live | Kheti ki News#kisankhabar #farming #farmingtechnology #kheti #mandirates #kisan #kisanbulletin #kisanmanch #farmers #farming #modernfarming #moderntechniques #farmhouse #polyhouse #tractor--------------------------------------------------------------------------------------------------------- KisanKhabar.com is the only portal which brings only good news from Farm Field. It brings A to Z information about farming, technology, and stories of successful farming. Apart from this, it guides old and new farmers as wellDownload India’s No. 1 Hindi News Mobile App: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.stork.kisankhabar&hl=en_INSubscribe To Our Channel: https://www.youtube.com/channel/UCUjgueyc1T3-kmH8qD5vcPQLike us on Facebook http://www.facebook.com/kisankhabarFollow us on Twitter http://twitter.com/kisankhabarOfficial website: https://www.kisankhabar.com

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 11335



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

44 thoughts on “कैसे होती है मलेरिया की दवा में इस्तेमाल होने वाली आर्टिमिशिया की खेती

  1. An impressive share, I just given this onto a colleague who was doing a little analysis on this. And he in fact bought me breakfast because I found it for him.. smile. So let me reword that: Thnx for the treat! But yeah Thnkx for spending the time to discuss this, I feel strongly about it and love reading more on this topic. If possible, as you become expertise, would you mind updating your blog with more details? It is highly helpful for me. Big thumb up for this blog post!

  2. 192208 261591Hi, you used to write superb articles, but the last several posts have been kinda lackluster I miss your super writing. Past few posts are just a bit out of track! 889218

  3. 336404 959821Id ought to verify with you here. Which isnt something I often do! I enjoy studying a publish that can make individuals believe. Also, thanks for permitting me to remark! 103830

  4. Autolike International, auto liker, autoliker, Auto Like, Autoliker, Photo Liker, Status Liker, ZFN Liker, Autoliker, Autolike, Status Auto Liker, auto like, Auto Liker, Photo Auto Liker, Increase Likes, autolike, Working Auto Liker

  5. 454964 334591Wow, amazing blog layout! How long have you been blogging for? you make blogging look easy. The overall appear of your web internet site is fantastic, let alone the content material! 709182

  6. I am not sure where you are getting your information, but good topic.
    I needs to spend some time learning much more or understanding
    more. Thanks for excellent information I was looking for this info for my mission.

  7. Your style is unique in comparison to other people I have read stuff from.
    Many thanks for posting when you have the opportunity, Guess I’ll just bookmark this page.

  8. Please let me know if you’re looking for a article writer
    for your weblog. You have some really good posts and I feel
    I would be a good asset. If you ever want to take some of
    the load off, I’d love to write some articles for your blog in exchange
    for a link back to mine. Please blast me an email if interested.
    Thanks!

  9. Spot on with this write-up, I actually believe that this amazing site needs a great deal more
    attention. I’ll probably be returning to read through more, thanks for the info!

  10. First off I would like to say wonderful blog!
    I had a quick question which I’d like to ask if you do not mind.
    I was interested to find out how you center yourself
    and clear your thoughts before writing. I have had a difficult time clearing
    my mind in getting my thoughts out. I truly do take pleasure in writing however it just seems like the
    first 10 to 15 minutes are lost simply just trying to figure out how to begin.
    Any suggestions or tips? Many thanks!

  11. Hi there just wanted to give you a brief heads up and let you know
    a few of the images aren’t loading correctly. I’m not sure why but I think its a
    linking issue. I’ve tried it in two different internet browsers and both show the same outcome.

  12. I am really impressed with your writing skills as
    well as with the layout on your blog. Is this a paid theme or did you modify it yourself?
    Anyway keep up the nice quality writing, it’s rare to see a great
    blog like this one today.

  13. I have been exploring for a little for any high quality articles or blog posts in this kind of space .
    Exploring in Yahoo I at last stumbled upon this web site.
    Reading this info So i am glad to show that I’ve
    an incredibly good uncanny feeling I came upon just what I needed.
    I so much definitely will make certain to don?t fail to
    remember this site and give it a glance on a relentless basis.

  14. Hey! I could have sworn I’ve been to this site before but after checking through some of the post I realized it’s new to me.
    Nonetheless, I’m definitely happy I found it and
    I’ll be book-marking and checking back frequently!

  15. Thank you, I have just been searching for information approximately this subject for a long
    time and yours is the best I have found out till now. But,
    what concerning the conclusion? Are you certain in regards to the source?

Leave a Reply

Your email address will not be published.