Zero Cost Farming father Subhash Palekar

भारतीय पालेकर के शून्य लागत वाले खेती के फॉर्मूले से आई विदेशों में क्रांति, 40 लाख किसानों का उत्पादन दोगुना हुआ

इंटरव्यू ताजा ख़बर नई तकनीक विदेश

शून्य लागत खेती के जनक हैं सुभाष पालेकर

रासायनिक पदार्थों की मदद से 1970 के दशक में भारत में हरित क्रांति की शुुरूआत तो हो गई, लेकिन अब नकारात्मक नतीजे देखने को मिल रहे हैं। पैदावार गिर रही है और खेत की जमीन बंजर हो रही है। ऐसे में किसान की समस्या का एक ही समाधान दिखता है और वो है शून्य लागत वाली खेती जिसे जीरो बजट खेती भी कहते हैं।

जीरो बजट खेती की नींद रखने वाले किसान सुभाष पालेकर ने इसे करीब 30 साल पहले खोजा था। आज इस तकनीक को करीब 40 लाख किसान भारत और विदेशों में इस्तेमाल कर रहे हैं।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

जीरो बजट खेती के बूते ही किसान के खेत का उत्पादन दोगुना हो चुका है। इसके करने के लिए सिर्फ 1 गाय खेत पर पालने की जरूरत है, जो कि आपके 30 एकड़ के खेत पर जीरो बजट खेती करवा सकती है।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

दरअसल, गाय के 1 ग्राम गोबर में अनगिनत छोटे जीव होते हैं। फसल के लिए अहम 16 विभिन्न तत्वों की पूर्ति ये छोटे जीव ही करते हैं। इस देसी तकनीक में छोटे जीवों की खेत की मिट्टी में संख्या बढ़ाई जाती है, ताकि वो फसलों के लिए खुद ही भोजन बनाने लगे। जबकि रासायनिक पदार्थ वाली खेती में फसल को भोजन देना पड़ता है। इस तकनीक में पानी और खाद की 90 प्रतिशत तक बचत होती है।

विदेशों में भी लोकप्रिय है पालेकर का प्रयोग

शून्य लागत खेती के जनक सुभाष पालेकर
शून्य लागत खेती के जनक सुभाष पालेकर

महाराष्ट्र के अमरावती जिले में रहने वाले सुभाष पालेकर ने साल 1988 से 1995 तक जीरो बजट खेती पर कई प्रयोग किए।

जब इससे उन्हें चौंकाने वाले परिणाम मिले, तो पालेकर ने जीरो बजट खेती को जन आंदोलन में बदलने का फैसला कर लिया।

30 साल की मेहनत के बाद अब पालेकर की वेबसाइट से देश ही नहीं बल्कि अमेरिका के साथ साथ अफ्रीका और एशिया के कई देशों के प्रगतिशील किसान जीरो बजट तकनीक सीखकर, इसे इस्तेमाल कर रहे हैं।

शून्य लागत खेती के चरण

शून्य लागत खेती के जनक सुभाष पालेकर
शून्य लागत खेती के जनक सुभाष पालेकर

1- बीजामृत तैयार करना : सबसे पहले बीज का अमृत यानी बीजामृत तैयार किया जाता है। इसके लिए एक घोल बनाया जाता है जिसमें 5 लीटर गोमूत्र, 50 ग्राम चूना, 5 किलो देशी गाय का गोबर, एक मुट्ठी पीपल के नीचे या मेड़ की मिट्टी को 20 लीटर पानी में मिलाया जाता है और इसे 24 घंटे तक रखा जाता है।

फिर दिन में 2 बार इसे लकड़ी से हिलाकर बीजामृत तैयार कर लिया जाता है। फिर करीब 100 किलो बीज का उपचार करने के बाद खेत में बीज बो दिए जाते हैं। इस प्रक्रिया को अपनाने से खेत में DAP और NKP समेत छोटे पोषक तत्वों की पूर्ति की जाती है। साथ ही इससे कीटरोग लगने की संभावना भी लगभग खत्म हो जाती है।

2- जीवामृत : इसमें भी एक घोल बनाया जाता है जिसमें 1 से 2 किलो गुड़, 1 से 2 किलो दलहन आटा, 5 से 10 लीटर गोमूत्र, 10 किलो देशी गाय का गोबर और एक मुट्ठी जीवाणुयुक्त मिट्टी को 200 लीटर पानी में मिलाया जाता है।। इसके मिलाकर एक ड्रम में जूट की बोरी से ढक दें। 2 दिन बाद जीवामृत को टपक सिंचाई के साथ इस्तेमाल करें। इस जीवामृत को स्प्रे के तरीके से भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

3- घन जीवनामृत :

इसमें 1 किलो दलहन आटा, 100 किलो गोबर, 1 किलो गुड़ और 100 ग्राम जीवाणुयुक्त मिट्टी को 5 लीटर गोमूत्र में मिलाकर पेस्ट बनाया जाता है। फिर 2 दिन तक छाया में सुखाया जाता है। इसके बाद इसे बारीक करके बोरी में भर दिया जाता है। एक कुंटल प्रति एकड़ की दर से बुवाई की जाती है। इससे फसल की पैदावार दोगुनी तक बढ़ने की संभावना हो जाती है।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

फूलों से 9 करोड़ सालाना कमाई वाला किसान | Shrikant kamate hain kheti se 9 crore annual | kisankhabar

Story क्या है--फूलों की खेती की पोपुलेरिटी बढ़ती ही जा रही है। श्रीकांत नाम के एक युवा किसान भाई खेती से 9 करोड़ रूपए सलाना कमाते हैं। वीडियो में देखिए कैसे होता है ये सब।#flowersfarming #richfarmer #kisan #kisankhabar #agriculture #farming #modernfarming #moderntechnology #farmingtechnology #agriculturefarms #farmingmachine #किसान #गांव #खेतीनीचे दी गई Top प्लेलिस्ट में आपके काम आने वाले एक तरह के सभी वीडियोज़ को अलग अलग ग्रुप में रखा गया है। जैसे कि खेती की ट्रेनिंग से जुड़े वीडियोज़ 'Training ट्रेनिंग ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे औऱ खेती में जुगाड़ तकनीक वाले वीडियोज़ 'जुगाड़ तकनीक ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे।खेती में समस्या का समाधान Solution of Agri problems = http://tiny.cc/stem7yKaise Karein कैसे करें How to do = http://tiny.cc/4xem7y Mushroom मशरूम की खेती = http://tiny.cc/bwem7yखेती में नई तकनीक Agriculture Technology = http://tiny.cc/9wem7yTraining ट्रेनिंग = http://tiny.cc/tuem7yDrip Irrigation ड्रिप इर्रिगेशन pani dene ke drip ka Tarika = http://tiny.cc/nyem7yखेती की जुताई करने वाली नई मशीनें Latest Crop Cultivation Local system = http://tiny.cc/7yem7yबीज बौने या पौधा लगाने वाली नई तकनीक Latest Cultivation Machines = http://tiny.cc/lzem7y

फसल की कटाई वाली हैर New Harvesting Machines = http://tiny.cc/2zem7yखेती में चौंकाने वाले प्रयोगों (एक्सपेरीमेंट) के वीडियोज़ = http://tiny.cc/20em7yसफल किसानों की कहानी का वीडियो Successful Farmers = http://tiny.cc/k1em7yदवा छिड़कने वाली मशीनें Spraypump = http://tiny.cc/51em7yजुगाड़ तकनीक Jugaad Technology = http://tiny.cc/0nem7y ड्रोन का खेती में इस्तेमाल Drone in farming = http://tiny.cc/ppem7yपशुपालन Pashupalan = http://tiny.cc/nqem7yट्रैक्टर Tractor = http://tiny.cc/4qem7yगांव में प्रतिभा Village Talent = http://tiny.cc/9tem7yकिसानख़बर KisanKhabar Bulletin = http://tiny.cc/qwem7yविदेशीखेती farming in Foreign = http://tiny.cc/hxem7yखेती में धोखे से सावधान Beware from Fraud in Farming = http://tiny.cc/t0em7yकृप्या हमारे Youtube चैनल को जरूर सब्सक्राइव करें, ताकि आपको हिन्दी भाषा में ऐसे अच्छे वीडियोज़ के मैसेज मोबाइल पर तुरंत मिलते रहे। कृप्या वीडियो को लाइक जरूर कीजिए।1. अगर आपकी जानकारी में ऐसा भी किसान भाई है जो खेती में ऐसा ही कुछ नया कर रहे हैं, तो कृप्या हमको WhatsApp +91.78.2753.8391 पर संपर्क करें।2. अगर ऐसे ही खेती के काम आने वाले रोचक वीडियो आपके पास हैं, तो हमको अपनी और मशीन की पूरी जानकारी के साथ WhatsApp +91.78.2753.8391 करें।====== Social Media A/CsYoutube Channel - https://www.youtube.com/kisankhabarpageFB - https://www.facebook.com/kisankhabarTwitter - https://www.twitter.com/kisankhabarWebsite - https://www.kisankhabar.comAndriod App - http://tiny.cc/ffal7y===== क्या है किसानख़बर.कॉम (KisanKhabar.com) दुनिया की एकमात्र ऐसी वेब, एप और यूट्यूब चैनल हैं, जहां पर खेती से जुड़ी सिर्फ अच्छी खबरों को ही दुनिया के सामने लाया जाता है। किसानों से जुड़ी कुल 14 तरह की समस्याओं का समाधान किसानखबर.कॉम (www.kisankhabar.com) पर मिलता है।KisanKhabar.com is the only portal in Hindi which brings positive news from agriculture field from India and abroad.It brings successful stories of people in farming and tells about new technology in the agriculture field. Apart from this, KisanKhabar.com gives complete details about "how to do" anything in the agriculture field.If you have any interesting story related to farmers/farming/ farming technology etc, please send us to - kisankhabar@gmail.comContact on Phone +91.78.2753.8391 =====

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 4392



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

11 thoughts on “भारतीय पालेकर के शून्य लागत वाले खेती के फॉर्मूले से आई विदेशों में क्रांति, 40 लाख किसानों का उत्पादन दोगुना हुआ

  1. Hmm it looks like your website ate my first comment (it was super long) so I guess I’ll just sum it up what I had written and say, I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog writer but I’m still new to the whole thing. Do you have any helpful hints for inexperienced blog writers? I’d definitely appreciate it.

  2. I do like the manner in which you have presented this particular difficulty and it does provide us some fodder for consideration. However, because of everything that I have personally seen, I basically hope as the actual reviews pack on that people stay on issue and don’t embark on a tirade associated with some other news du jour. Still, thank you for this exceptional point and even though I do not necessarily concur with this in totality, I value your point of view.

  3. Hello! I’ve been reading your site for a long time now and finally got the bravery to go ahead and give you a shout out from Porter Tx!
    Just wanted to mention keep up the excellent job!

Leave a Reply

Your email address will not be published.