Soil Testing in India

मिट्टी की जांच कराओ और बढ़िया फसल से ज्यादा पैसे कमाओ

ताजा ख़बर नई तकनीक

समय-समय पर मिट्टी की जांच ज्यादा उत्पादन के लिए बेहद जरूरी

आप चाहे मोटर साइकिल चलाते हो या फिर कार, समय समय पर अपनी कार के टायर की हवा जरूर चैक करवाते हैं क्योंकि कम हवा के साथ गाड़ी चलाने पर ना केवल टायर के पंचर होने का खतरा बढ़ जाता है बल्कि गाड़ी का औसत भी गिर जाता है। ठीक इसी तरह है आपके खेत की मिट्टी का जांच का मामला भी।

जरूरत से ज्यादा और लगातार उर्वरकों और कृषि रसायनों के इस्तेमाल से खेत की मिट्टी की ताकत कम हो रही है। जिससे उत्पादन भी कम होता जा रहा है।

Soil Testing in India
मिट्टी की जांच है बेहद जरूरी

मिट्टी की जॉंच आवश्‍यक क्‍यों ?

  1. यह जानना जरूरी होता है कि मिट्टी में कौन-कौन से पोषक तत्‍व कितनी मात्रा में उपलब्‍ध हैं ताकि फसलों से अधिक उपज लेने की सही योजना बनाई जा सके
  2. फसल की जरूरत के हिसाब से जैविक खाद और उर्वरकों को दिया जा सके
  3. खेत की मिट्टी में क्या क्या फसलें की जा सकती हैं।
  4. मिट्टी का पीएच जानने के लिए
  5. मिट्टी में कमी पता करके उसे सही इलाज करने के लिए

मिट्टी का नमूना कब लें ?

  1. रबी फसल की कटाई के बाद से लेकर खरीफ की बुवाई के ठीक पहले के बीच के समय में।
  2. जिन इलाकों में पूरे साल बरसात होती है वहां कटाई के तुरंत बाद।
  3. अगर खेत में फसल लगी हुई है, तो पौधों की कतार के बीच से मिट्टी का सैंपल लें।

मिट्टी का नमूना लेने के लिए क्या सामान होना जरूरी है

  1. खुरपी या आगर
  2. तसला या प्‍लास्टिक की साफ बाल्‍टी
  3. एक किलोग्राम वाली दो पॉलीथीन
  4. धागा
  5. सादा कागज
  6. साफ पुराना अखबार
मिट्टी की जांच है बेहद जरूरी
मिट्टी की जांच है बेहद जरूरी

सावधानियॉं

1. पेड़ और देशी खाद के ढेर के नीचे की मिट्टी बिल्कुल ना लें।
2. खेत के कोनों और मेड़ से 1 मीटर अंदर तक के इलाके से मिट्टी न लें।
3. जहां पानी भरा रहता है या नाली के पास वाले इलाके से भी मिट्टी ना लें।
4. अगर दो अलग अलग खेत हैं और दोनों की मिट्टी अलग है, तो नमूनें भी दो लें।
5. नमक की बोरी, खाद या उर्वरक इत्यादि के ऊपर रखकर मिट्टी के सैंपल ना सुखाएं।

6. मिट्टी से कंकड़-पत्थर-पॉलिथीन जैसे कचरे को हटा दें।
7. मिट्टी नमूना रखने के लिए नई और साफ पॉलीथीन का इस्तेमाल करें।
8. यदि खेत ऊंचा-नीचा है, तो मिट्टी का नमूना अलग – अलग लें
9. अधिकतम 1 हेक्‍टेयर के खेत से सिर्फ एक ही सैंपल लें।

मिट्टी का नमूना कैसे लें (तरीका) ?

  1. खेत में 10 से 12 अलग अलग जगहों चुन लगें या निशान लगा दें।
  2. अब इन चुनी हुई जगहों के ऊपर की 1-2 सेंटी मीटर जगह से घास, कचड़ा और पत्थर जैसी बेकार की चीजें हटा दें।
  3. अब खुर्पी से इन जगहों पर वी या त्रिकोम के आकार का 6 से 8 इंच का कट लगाने के बाद मिट्टी को निकालकर बाल्टी या तसले में रखते जायें।
  4. फिर छाया में किसी समतल जगह या फर्श पर अखबार बिछाएं और उस पर इस मिट्टी को सूखने के लिए रख दें।
  5. अब इस मिट्टी से गोबर, घास, पत्थर के टुकड़े जैसे बेकार की चीजों के निकालकर भेंक दें।
  6. फिर मिट्टी के ढेर को करीब तीन इंच की मोटाई में गोलकार रूप देकर सीधी रेखा बनाकर 4 हिस्सों में बांट दें। इसके बाद आमने सामने के 2 हिस्से हटा दें। अब बाकी बचे दो हिस्से को आपस में मिलाकर फिर से गोलाकार करके 4 हिस्सों में बांटे और 2 हिस्से निकाल लें। अब बचे 2 हिस्से की मिट्टी की को साफ पॉलीथीन में रखकर धागे से बांध दें। ध्यान रहे कि सैंपल के पॉलीथीन में मिट्टी करीब आधा किलो होनी चाहिए।
  7. अब इस सैंपल को मिट्टी जांच केंद्र में जांच के लिए दे दीजिए। आमतौर पर 15 दिन में मिट्टी की जांच रिपोर्ट मिल जाती है।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]

Leave a Reply

Your email address will not be published.