Gladiolus Farming in India

एक किसान ने पंजाब में अपने गांव को बना दिया मिनी हॉलैंड जैसा देश, लेकिन कैसे?

इंटरव्यू ताजा ख़बर नई तकनीक नौकरी या खेती

ग्लाडियोलस के फूलों की खेती से एक एकड़ में डेढ़ लाख रूपए का लाभ हो सकता है

अगर आप दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बैंगलोर, हैदराबाद, पुणे जैसे बड़े शहरों में रहते हैं तो निश्चित तौर पर आपने किसी सम्मान समारोह और शादी इत्यादि में फूलों का गुलदस्ता लेते लोगों को देखा होगा।

इन फूलों को देखकर आपको अहसास हो जाता है कि ये फूल कोई आम गेंदा या गुलाब का फूल नहीं बल्कि विदेशी फूल ग्लाडियोलस होता है। ऐसे फूलों का एक गुलदस्ता 400-500 रूपए के करीब आपको रिटेल में मिलता है।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

गुलाब और गेंदे के फूलों की खेती के मुकाबले ग्लाडियोलस की खेती में कई गुना फायदा होता है। इसी बात को पंजाब के गुरविंदर सिंह सोही ने बेहतर ढंग से समझा और अब वो कमाई जबरदस्त कर रहे हैं।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

ग्लाडियोलस के फूल
ग्लाडियोलस के फूल

किसान सोही ने नानोवाल गांव में 10 एकड़ खेत में ग्लाडियोलस के फूलों की खेती कर रखी है। इन्हें देखने पर लगता है कि मानो यूरोपीयन देश हॉलैंड में विदेशी फूलों से भरे किसी खेत में आप खड़े हो। ऐसा नजारा शाहरूख खआन की फिल्म DDLJ में दिखाया गया है।

कितनी कमाई है

इन फूलों को सोही लुधियाना, पटियाला और चंडीगढ़ में एजेंटों और डीलरों को भेजते हैं। Facebook और Whatsapp के माध्यम से वो इसकी खूब मार्केटिंग करते हैं, जिससे उनको नए खरीददार मिलते हैं।

ग्लाडियोलस की इन टहनियों से रूपए 2 लाख प्रति एकड़ तक की कमाई होती है। शादी और त्योहारों के सीजन में तो एक टहनी की कीमत 7 रूपए हो जीता है।

शुरू में प्रति एकड़ 1.5 लाख रूपए की लागत आती है। किसान सोही को इन फूलों से हर साल प्रति एकड़ 1.5 लाख से ऊपर का लाभ होता है। अगले सीजन में इन्हीं फूलों से अगले साल के लिए बीज मिल जाते हैं।

ग्लाडियोलस के फूल
ग्लाडियोलस के फूल

कैसे की शुरुआत

साल 2008 में सोही ने ग्लोडियोलस फूलों की खेती शुरू की थी। इसकी खेती से जुड़े सभी तरह के लाभ और खतरों के बारे में जानने के बाद ही उन्होंने इसे करने का फैसला लिया।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

25 June को देश की एक मंडी में 3 लाख रू. कुंटल बिकी एक फसल, 9 हजार+ फसलों का ताजा भाव

KisanKhabar.com दुनिया की एकमात्र ऐसी साइट है जहां पर खेती की सिर्फ अच्छी ख़बरें ही आती हैं। जहां खेती में सफल किसानों की ना केवल सफलता की कहानियां बताई जाती हैं बल्कि आपको उनसे मिलने का मौका भी दिया जाता है ताकि आप भी उनकी तरह लाखों की कमाई वाली खेती करना सीख सकें।

इसके अलावा हर किसान की 14 समस्याओं का समाधान भी आपको सिर्फ और सिर्फ इसी साइट पर मिलेगा। --------------------------------------------------------------------------------------------------------- Kisan Khabar Live | New Farming Technology | Kheti New machine | Mandi Rates Live | Kheti ki News#mandi #mandibhav #kisankhabar #farming #farmingtechnology #kheti #mandirates #kisan #kisanbulletin #kisanmanch #farmers #farming #modernfarming #moderntechniques #farmhouse #polyhouse #tractor--------------------------------------------------------------------------------------------------------- KisanKhabar.com is the only portal which brings only good news from Farm Field. It brings A to Z information about farming, technology, and stories of successful farming. Apart from this, it guides old and new farmers as wellDownload India’s No. 1 Hindi News Mobile App: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.stork.kisankhabar&hl=en_INSubscribe To Our Channel: https://www.youtube.com/channel/UCUjgueyc1T3-kmH8qD5vcPQLike us on Facebook http://www.facebook.com/kisankhabarFollow us on Twitter http://twitter.com/kisankhabarOfficial website: https://www.kisankhabar.com

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 5574



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

15 thoughts on “एक किसान ने पंजाब में अपने गांव को बना दिया मिनी हॉलैंड जैसा देश, लेकिन कैसे?

  1. 251800 242840This put up is totaly unrelated to what I used to be searching google for, however it was indexed on the initial page. I guess your performing something appropriate if Google likes you adequate to place you at the first page of a non related search. 648897

  2. 29376 412449Hi this is somewhat of off topic but I was wondering if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML. Im starting a blog soon but have no coding information so I wanted to get guidance from someone with experience. Any assist would be greatly appreciated! 210760

  3. 876415 715373That being said by use it all, planet is truly restored slightly more. This situation in addition will this specific Skin tightening and starting to be moved and into the mood of these producing activities. day-to-day deal livingsocial discount baltimore washington 245165

Leave a Reply

Your email address will not be published.