भारतीय तुलसी से बनी चाय की सिंगापुर में धूम, 300 किसानों को मिला ऑर्डर

ताजा ख़बर नई तकनीक विदेश

उत्तराखंड के किसान करेंगे तुलसी की चाय का एक्सपोर्ट

उत्तराखंड के आंगन में पैदा होने वाली तुलसी की महक अब सिंगापुर पहुंच गई है। उत्तराखंड के किसानों ने तुलसी से बनी विशेष चाय बनाई है, जिसकी सिंगापुर में जबरदस्त डिमांड है। अब इन किसानों को सिंगापुर से बड़ा ऑर्डर मिल गया है।

इस ऑर्डर से अब उत्तराखंड राज्य के 300 किसानों को बड़ी कमाई होने वाली है।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

इन किसानों की इस सफलता के पीछे एक रोचक कहानी है। दरअसल, राज्य के चमोली जिले के कई इलाकों के किसान बंदरों और बाकी जानवरों से बहुत परेशान थे। क्योंकि ये जानवर फसल को बर्बाद कर दिया करते थे। ऐसे में हार्क यानी हिमालयन एक्शन रिसर्च सेंटर ने इन किसानों को तुलसी की खेती करने का सुझाव दिया।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

किसानों को हार्क के अधिकारियों की बात समझ आ गई। फिर हार्क के अधिकारियों ने किसानों को तुलसी की चाय की खेती की जानकारी से लेकर तकनीकी सहायता तक सभी तरह की मदद की। अब करीब 150 बीघा खेत पर इस इलाके के 300 किसान यही फसल करते हैं।

तुलसी की बूरे वाली चाय के साथ डिप वाली चाय भी हार्क की मदद से ही तैयार की जा रही है। हार्क के वरिष्ठ अधिकारी महेंद्र कुंवर के का कहना है कि उन्होंने पहले चाय के कुछ सैंपल सिंगापुर में कुछ संभावित खरीददारों को भेजे गए थे। वहां उनको ये सभी सैंपल बहुत जबरदस्त लगे और उन्होंने बड़ा ऑर्डर दे दिया।

इस साल रूपए 1 करोड़ की चाय के एक्सपोर्ट का लक्ष्य रखा गया है। सिंगापुर के बाद अब तो दुबई से भी इसी चाय का बड़ा ऑर्डर मिलने की संभावना है।

तुलसी के फायदे

  1. सर्दी-जुकाम को रोकने में तुलसी की चाय काफी मदगार होती है। तुलसी की चाय का ना केवल स्वाद बल्कि खुशबू लाजवाब होती है।
  2. जहां पानी की कमी है, वहां भी तुलसी के पौधे उगाए जा सकते हैं।
  3. तुलसी का पौधा औषधियों में गिना जाता है और इसके अंदर से ऐसी गंध आती है, जो जानवरों को पसंद नहीं होती और जानवर इस वजह से फसल को नुकसान नहीं पहुंचाते।
  4. कमाई के लिहाज से सबसे अच्छी बात ये कि तुलसी की खेती साल में 3 बार की जा सकती है।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

25 June को देश की एक मंडी में 3 लाख रू. कुंटल बिकी एक फसल, 9 हजार+ फसलों का ताजा भाव LIVE

25 June को देश की एक मंडी में 3 लाख रू. कुंटल बिकी एक फसल, जाने 9 हजार से ज्यादा फसलों का ताजा भाव LIVE - www.kisankhabar.com/mandiKisanKhabar.com दुनिया की एकमात्र ऐसी साइट है जहां पर खेती की सिर्फ अच्छी ख़बरें ही आती हैं। जहां खेती में सफल किसानों की ना केवल सफलता की कहानियां बताई जाती हैं बल्कि आपको उनसे मिलने का मौका भी दिया जाता है ताकि आप भी उनकी तरह लाखों की कमाई वाली खेती करना सीख सकें।

इसके अलावा हर किसान की 14 समस्याओं का समाधान भी आपको सिर्फ और सिर्फ इसी साइट पर मिलेगा। --------------------------------------------------------------------------------------------------------- Kisan Khabar Live | New Farming Technology | Kheti New machine | Mandi Rates Live | Kheti ki News#kisankhabar #farming #farmingtechnology #kheti #mandirates #kisan #kisanbulletin #kisanmanch #farmers #farming #modernfarming #moderntechniques #farmhouse #polyhouse #tractor--------------------------------------------------------------------------------------------------------- KisanKhabar.com is the only portal which brings only good news from Farm Field. It brings A to Z information about farming, technology, and stories of successful farming. Apart from this, it guides old and new farmers as wellDownload India’s No. 1 Hindi News Mobile App: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.stork.kisankhabar&hl=en_INSubscribe To Our Channel: https://www.youtube.com/channel/UCUjgueyc1T3-kmH8qD5vcPQLike us on Facebook http://www.facebook.com/kisankhabarFollow us on Twitter http://twitter.com/kisankhabarOfficial website: https://www.kisankhabar.com

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 2398



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

36 thoughts on “भारतीय तुलसी से बनी चाय की सिंगापुर में धूम, 300 किसानों को मिला ऑर्डर

  1. 306471 425264Right after examine a couple of of the weblog posts on your web site now, and I in fact like your way of blogging. I bookmarked it to my bookmark web site list and shall be checking again soon. Pls try my web site online as nicely and let me know what you believe. 216568

  2. 754193 501132You produced some decent points there. I looked online towards the issue and discovered many people is going in addition to utilizing your internet site. 915919

  3. 967877 721330Nicely picked details, many thanks towards the author. It is incomprehensive in my experience at present, nevertheless in common, the convenience and importance is mind-boggling. Regards and all of the finest .. 404974

  4. Today, I went to the beachfront with my kids. I found a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear. She never wants to go back! LoL I know this is totally off topic but I had to tell someone!

  5. A lot of of whatever you state happens to be supprisingly precise and it makes me ponder why I had not looked at this with this light before. This piece truly did turn the light on for me personally as far as this particular subject goes. However there is 1 point I am not necessarily too comfy with and while I try to reconcile that with the main idea of your point, let me see just what the rest of the visitors have to point out.Nicely done.

  6. 667076 532080Do individuals nonetheless use these? Personally I love gadgets but I do prefer something a bit more up to date. Nonetheless, nicely written piece thanks. 857352

  7. 827886 834404I think 1 of your advertisements triggered my internet browser to resize, you might want to put that on your blacklist. 706562

Leave a Reply

Your email address will not be published.