Farmer Harbir does nursery farming

पौधे बेचने से ही कमाएं 3 करोड़ रूपए, 100 से ज्यादा लोग करते हैं इनके लिए काम

इंटरव्यू ताजा ख़बर नई तकनीक नौकरी या खेती

हरियाणा के हरबीर ने एमए के बाद नौकरी करने के बजाय खेती को चुना

खेती इतनी भी बुरी नहीं है कि जितना इसका नाम खराब कर दिया है। दरअसल, जो भी व्यक्ति थोड़ी बहुत समझ बूझ से और धैर्य से खेती करे, तो हरियाणा के हरबीर सिंह की तरह करोड़ों में कमाई कर सकता है। हरियाणा में खेती से मुनाफा कमाना चौखी कमाई का जरिया बनता जा रहा है। हम आपको कुरुक्षेत्र जिले के एक ऐसे ही किसान से रूबरू करा रहे हैं, जो महज कुछ एकड़ में खेती कर सालाना करोड़ों रुपए की कमाई कर रहा है।

किसान हरबीर के खेत पर काम करते हुए मजदूर
किसान हरबीर के खेत पर काम करते हुए मजदूर

हम बात कर रहे हैं कुरुक्षेत्र जिले के गांव शाहाबाद में रहने वाले किसान हरबीर सिंह की। हरबीर ने मास्टर डिग्री लेने के बाद नौकरी नहीं की और खेती में ज्यादा रूचि दिखाई। इसी का नतीजा है कि आज वे करोड़पति किसान हैं।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

 

2005 में हरबीर ने सिर्फ 2 कनाल क्षेत्र (जमीन का एकड़ से भी छोटा हिस्सा) में 1 लाख रूपए की लागत से सब्जियों की नर्सरी लगाई। इससे उन्हें अच्छा-खासा फायदा होने लगा।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

उन्होंने इसके बाद और जमीन खरीदी। अब 2015 में 11 एकड़ खेत में हरबीर सिंह की नर्सरी है, जिससे सालाना लगभग 3 करोड़ का लाभ होता है।




एडवांस बुकिंग पर ही मिलती है पौध

अपने खेत पर किसान हरबीर
अपने खेत पर किसान हरबीर

क्षेत्र में हरबीर की नर्सरी बहुत मशहूर है। यही वजह है कि एडवांस बुकिंग के बिना हरबीर की नर्सरी से तुरंत पौधा मिल पाना बहुत मुश्किल है।

इंटरनेशनल बी-रिसर्च एसोसिएशन के वो सदस्य भी हैं। साल 2004 में एसोसिएशन की ओर से हरबीर सिंह इंग्लैंड दौरे पर गए थे। नर्सरी के अलावा बहरबीर ने साल 1996 में 5 बॉक्स से मुधमक्खी पालन का काम शुरू किया था। अब वो 470 बॉक्स मधुमक्खी पालन करते हैं।

हरबीर सिंह के मुताबिक उन्होंने वैज्ञानिक तरीके से खेती शुरु की थी।

उन्होंने टमाटर, गोभी, हरी मिर्च, प्याज, शिमला मिर्च, बैंगन सहित अन्य पौध तैयार की।





 

पौध अच्छी निकली तो यूपी, हिमाचल, हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों के किसान पौध खरीदने के लिए आने लगे।

पौध को खरीदने से पहले कम से कम 3 दिन पहले एडवांस बुक करवाना पड़ता है। 3 दिन के बाद ही पौध मिल पाता है। इस वजह से हरबीर सिंह के फार्म हाउस पर लोगों की भीड़ लगी रहती है। लेकिन इसी वजह से उनको करोड़ों की कमाई भी होती है।

अपने खेत पर किसान हरबीर
अपने खेत पर किसान हरबीर




सैंकड़ों लोगों को दे रहे रोजगार

हरबीर सिंह की नर्सरी में एक-दो नहीं बल्कि 121 महिला- पुरूष काम पर लगे हुए हैं। पिछले साल उन्होंने 4 करोड़ पौध बेचे थे, जबकि इस बार ये लक्ष्य 10 करोड़ पौधे बेचने का है।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

ये भी पढ़े :-

  1. पहली बार खुलासा, क्यों किसान बदहाल, एक्सपर्ट्स और सरकार छुपाते हैं असली वजह
  2. चाहे सूखा पड़े या ज्यादा बारिश, इनकी खेती होती है हमेशा बढ़िया
  3. इजरायली तकनीक अपनाओ तो दूध नहीं फटेगा, फ्रीज की जरूरत नहीं
  4. इजरायल ने क्यों बसाया एक अनोखा गांव
  5. गूगल की शानदार नौकरी छोड़ दी किसान बनने के लिए, अब कमाई है सालाना 16 करोड़ रूपए
  6. किसान बननेे के लिए विदेश में 45 लाख रूपए की नौकरी छोड़कर देश वापस आ गए
  7. जमीन नहीं मिली तो दीवारों पर ही खेती करने लगा ये देश

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

फूलों की खेती से कमाते हैं 50 से 60 हजार रूपये महीना | High income from flowers farming in India

Story क्या है-- फूलों की खेती से एक किसान कैसे 50-60 हजार रूपए महीने गांव में ही कमा रहा है, देखिए पूरी कहानी इस वीडियो में। गांव में 50-60 हजार रूपए की कमाई का मतलब है शहर में करीब 1 लाख रूपए की कमाई।#flowersfarming #youngfarmer #rosefarming #kisan #kisankhabar #agriculture #farming #modernfarming #moderntechnology #farmingtechnology #agriculturefarms #farmingmachine #किसान #गांव #खेतीनीचे दी गई Top प्लेलिस्ट में आपके काम आने वाले एक तरह के सभी वीडियोज़ को अलग अलग ग्रुप में रखा गया है। जैसे कि खेती की ट्रेनिंग से जुड़े वीडियोज़ 'Training ट्रेनिंग ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे औऱ खेती में जुगाड़ तकनीक वाले वीडियोज़ 'जुगाड़ तकनीक ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे।खेती में समस्या का समाधान Solution of Agri problems = http://tiny.cc/stem7yKaise Karein कैसे करें How to do = http://tiny.cc/4xem7y Mushroom मशरूम की खेती = http://tiny.cc/bwem7yखेती में नई तकनीक Agriculture Technology = http://tiny.cc/9wem7yTraining ट्रेनिंग = http://tiny.cc/tuem7yDrip Irrigation ड्रिप इर्रिगेशन pani dene ke drip ka Tarika = http://tiny.cc/nyem7yखेती की जुताई करने वाली नई मशीनें Latest Crop Cultivation Local system = http://tiny.cc/7yem7yबीज बौने या पौधा लगाने वाली नई तकनीक Latest Cultivation Machines = http://tiny.cc/lzem7yफसल की कटाई वाली हैर New Harvesting Machines = http://tiny.cc/2zem7yखेती में चौंकाने वाले प्रयोगों (एक्सपेरीमेंट) के वीडियोज़ = http://tiny.cc/20em7y

सफल किसानों की कहानी का वीडियो Successful Farmers = http://tiny.cc/k1em7yदवा छिड़कने वाली मशीनें Spraypump = http://tiny.cc/51em7yजुगाड़ तकनीक Jugaad Technology = http://tiny.cc/0nem7y ड्रोन का खेती में इस्तेमाल Drone in farming = http://tiny.cc/ppem7yपशुपालन Pashupalan = http://tiny.cc/nqem7yट्रैक्टर Tractor = http://tiny.cc/4qem7yगांव में प्रतिभा Village Talent = http://tiny.cc/9tem7yकिसानख़बर KisanKhabar Bulletin = http://tiny.cc/qwem7yविदेशीखेती farming in Foreign = http://tiny.cc/hxem7yखेती में धोखे से सावधान Beware from Fraud in Farming = http://tiny.cc/t0em7yकृप्या हमारे Youtube चैनल को जरूर सब्सक्राइव करें, ताकि आपको हिन्दी भाषा में ऐसे अच्छे वीडियोज़ के मैसेज मोबाइल पर तुरंत मिलते रहे। कृप्या वीडियो को लाइक जरूर कीजिए।1. अगर आपकी जानकारी में ऐसा भी किसान भाई है जो खेती में ऐसा ही कुछ नया कर रहे हैं, तो कृप्या हमको WhatsApp +91.78.2753.8391 पर संपर्क करें।2. अगर ऐसे ही खेती के काम आने वाले रोचक वीडियो आपके पास हैं, तो हमको अपनी और मशीन की पूरी जानकारी के साथ WhatsApp +91.78.2753.8391 करें।====== Social Media A/CsYoutube Channel - https://www.youtube.com/kisankhabarpageFB - https://www.facebook.com/kisankhabarTwitter - https://www.twitter.com/kisankhabarWebsite - https://www.kisankhabar.comAndriod App - http://tiny.cc/ffal7y===== क्या है किसानख़बर.कॉम (KisanKhabar.com) दुनिया की एकमात्र ऐसी वेब, एप और यूट्यूब चैनल हैं, जहां पर खेती से जुड़ी सिर्फ अच्छी खबरों को ही दुनिया के सामने लाया जाता है। किसानों से जुड़ी कुल 14 तरह की समस्याओं का समाधान किसानखबर.कॉम (www.kisankhabar.com) पर मिलता है।KisanKhabar.com is the only portal in Hindi which brings positive news from agriculture field from India and abroad.It brings successful stories of people in farming and tells about new technology in the agriculture field. Apart from this, KisanKhabar.com gives complete details about "how to do" anything in the agriculture field.If you have any interesting story related to farmers/farming/ farming technology etc, please send us to - kisankhabar@gmail.comContact on Phone +91.78.2753.8391 =====

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 41223



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

93 thoughts on “पौधे बेचने से ही कमाएं 3 करोड़ रूपए, 100 से ज्यादा लोग करते हैं इनके लिए काम

  1. 444478 568151Whoah this weblog is magnificent i truly like reading your articles. Keep up the very good paintings! You realize, a great deal of persons are looking round for this info, you could aid them greatly. 971493

  2. 309442 612134I found your weblog web site on google and check a couple of of your early posts. Continue to preserve up the superb operate. I just further up your RSS feed to my MSN News Reader. Searching for forward to studying extra from you in a whilst! 433793

  3. Amoxicillin Dose Sinus Infection Order Now Doryx Vibramycin cialis Discount Finasteride Tablets Plavix Discount Canada1 Mg Prednisone No Scrip Levitra Effetti Collaterali Farmacia

Leave a Reply

Your email address will not be published.