Niraml Singh did contract farming in India

कॉन्ट्रैक्ट खेती ने बनाया करोड़पति, 40 लाख रूपए की ऑडी कार में चलता है ये किसान

इंटरव्यू ताजा ख़बर नई तकनीक नौकरी या खेती विदेश

ब्रिटेन की एक कंपनी के लिए बासमती चावल की करते हैं कॉन्ट्रैक्ट पर खेती

भारत में पिछले दशक में लोकप्रिय हुई कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है। कॉन्ट्रेक्ट फॉर्मिंग आपके फर्श से अर्श तक ले जा सकती है। इसका सबसे बड़ा सबूत है किसान निर्मल सिंह।

कॉन्ट्रेक्ट फॉर्मिंग की वजह से ही किसान निर्मल सिंह अब 40 लाख रूपए की महंगी ऑडी कार में चलते हैं। दरअसल, निर्मल सिंह बासमती चावल की कॉन्ट्रेक्ट फॉर्मिंग करते हैं। इनके चावल की धूम ब्रिटेन तक है।

खेती के लिए ठुकराया नौकरी का ऑफर
छोटी-सी उम्र में पिता का साया सिर से उठ गया। निर्मल सिंह के कंधों पर परिवार का बोझ अचानक आ गया। लेकिन उन्होंने ऐसे समय में नौकरी के बजाय खेती पर ही जोर दिया। पहले उन्होंने ट्रिपल एमए किया। फिर एमएड, एम फिल भी किया।

इसके बाद उन्होंने पीएचडी की, तो उनको एक यूनिवर्सिटी से नौकरी का ऑफर मिला। लेकिन उन्होंने खेती को ही जारी रखने का फैसला किया और नौकरी के ऑफर को ठुकरा दिया।

अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल
खेती के लिए निर्मल सिंह अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करते हैं। धान की रोपाई से वो पहले ट्रैक्टर से खेत को समतल नहीं करते। इससे पैसे की बचत होती है। फिर रोपाई से पहले ही खेत में पानी छोड़ देते हैं।

निर्मल सिंह के मुताबिक इस तकनीक से जमीन की उर्वरा शक्ति बढ़ती है। साथ में वो फुव्वारा तकनीक की मदद से पानी देते हैं और आधे पानी में ही उनकी फसल की जरूरत पूरी हो जाती है। यानी यहां भी लागत फिर से कम होती है। ये कुछ वैसी ही तकनीक है जैसी जापान के एक किसान ने 60 साल तक इस्तेमाल किया और बाकी लोगों के ज्यादा चावल पैदा किया। मरने से पहले उस जापानी किसान ने इस तकनीक पर पूरी किताब ही लिख डाली।

लंदन की टिल्डाराइस लैंड से करार
38 साल किसान निर्मल सिंह के पास खुद का 40 एकड़ खेत है। जबकि वो 60 एकड़ खेत और किराए पर ले लेते हैं। इस तरह वो कुल 100 यानी 500 बीघा खेत पर बासमती की खेती करते हैं।

निर्मल सिंह ने 1997 से लेकर अभी तक फसल को कभी मंडी में जाकर नहीं बेचा। बल्कि वो 1997 से ही लंदन की कंपनी टिल्हा राइसलैंड को अपना सारा धान बेच देते हैं।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]a

Leave a Reply

Your email address will not be published.