Press "Enter" to skip to content

उत्तर प्रदेश के एक युवा लड़के ने एयरवेज की नौकरी छोड़ी, करने लगा केंचुओं का व्यापार

Hits: 8033

केंचुओं के व्यापार में खड़ा किया बड़ा धंधा

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में एक ऐसा व्यक्ति है जिसने एयरवेज की शानोशौकत से भरी रंगीन दुनिया की नौकरी को छोड़कर खेतों के लिए केंचुओं का बिजनस शुरु कर दिया।

दिलजिंदर सिंह – यही नाम है उस हिम्मती युवा का। लखीमपुर खिरी के गांव मोहनपुरवा के निवासी दिलजिंदर सिंह के खेत गन्ने से हरे भरे दिखते हैं। खास बात ये है कि वो खेत में पेस्टीसाइड्स का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करतेभ. बल्कि केंचुओं की मदद लेते हैं।

Red Worm Business केंचुओं की खेती
Red Worm Business केंचुओं की खेती



 

जिधर देखो खेत में केंचुओं की बीट दिखती है। खेत में कहीं भी खोदने पर केंचुओं के गुच्छे मिलते है। दिलजिंद के मुताबिक केंचुओं किसान के सबसे अच्छे मित्र हैं क्योंकि ये खेत की मिट्टी को पोला रखने में बड़ी भूमिका निभाते हैं।

अब मॉर्डन खेती करने वाले किसान वर्मी कम्पोस्ट और केंचुए की खाद का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। अपने खेत में दिलजिंदर सिंह गन्ने की पत्तियों को जलाते नहीं है बल्कि खेतों में सड़ने के लिए पड़ रहने देते हैं। जो कि बाद में खाद का रूप लेकर खेत की मिट्टी को उर्वरा शक्ति को बढ़ा देती है।




32 साल के दिलजिंदर एक एयरवेज कम्पनी में नौकरी किया करते थे। लेकिन पिताजी की मृत्यु के बाद उन्होंने गांव में ही खेती करने का फैसला किया।

ट्रेंच मेथड से गन्ना बोने वाले दिलजिंदर के मुताबिक केंचुओं की मदद से ही उनके खेतों में कम से कम प्रति एकड़ 500 कुंटल गन्ने की पैदावार होती है। जबकि केंचुओं के बिना खेती करने वाले दूसरे किसान को एक एकड़ में सिर्फ 300 कुंटल गन्ने का उत्पादन मिल पाता है।




ये भी पढ़े :-

  1. किसानों के लिए आपके शहर की पुलिस का वॉट्सअप नंबर
  2. बिहार के एक किसान ने कैसे बदली 50 हजार किसानों तकदीर
  3. चाहे सूखा पड़े या ज्यादा बारिश, इनकी खेती होती है हमेशा बढ़िया
  4. इजरायली तकनीक अपनाओ तो दूध नहीं फटेगा, फ्रीज की जरूरत नहीं
  5. इजरायल ने क्यों बसाया एक अनोखा गांव
  6. गूगल की शानदार नौकरी छोड़ दी किसान बनने के लिए, अब कमाई है सालाना 16 करोड़ रूपए
  7. किसान बननेे के लिए विदेश में 45 लाख रूपए की नौकरी छोड़कर देश वापस आ गए
  8. जमीन नहीं मिली तो दीवारों पर ही खेती करने लगा ये देश
  9. पहली बार पूरा खुलासा, हरित क्रांति के बाद भी देश में क्यों नहीं सुधरी किसानों की आर्थिक हालत

 

मशरूम की देश और दुनिया में खपत बहुत तेजी से बढ़ी है। लेकिन जितनी रफ्तार से इसकी खपत बढ़ी है उतनी रफ्तार से इसकी खेती करने वालों की संख्या नहीं बढ़ी। हालांकि इसे करने में रूचि रखने वालों की कोई कमी नहीं है। दरअसल इसमें रूचि रखने वालों को पता नहीं है कि इसकी ट्रेनिंग कब, कहां, कैसे होती है और कौन इसकी सही ट्रेनिंग दे सकता है। लेकिन अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि भारत सरकार का DMR यानी Directorate of Mushroom Research खुद इसकी ट्रेनिंग देश में अलग अलग जगहों पर दे रहा है। इसकी ट्रेनिंग के लिए कैसे, कब और कहां एप्लाई करें, इसकी पूरी जानकारी आज आप किसानख़बर.कॉम के इस वीडियो में सिखेंगे। Note:- आपसे अनुरोध है कि किसानख़बर.कॉम की इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें ताकि सभी लोगों को इसका लाभ मिल सके। साथ में फेसबुक पेज को लाइक भी करें, ताकि आपको हमेशा ऐसी अच्छी ख़बरें तुरंत मिलती रहें। mushroom cultivation in India, mushroom training kahan hoti hai, mushroom ki kheti main faayda, mushroom farming investment and profit

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat