baiga_tribe_bewar_farming_kathuria

इन किसानों को नहीं सूखे और ज्यादा बारिश से चिंता, करते हैं अनोखे ढंग से खेती

इंटरव्यू ताजा ख़बर नई तकनीक

कम या ज्यादा बारिश दोनों सूरतों में ही करते हैं बैगा खेती

हर साल देश के कुछ हिस्सों में कहीं सूखा पड़ता है तो कहीं बाढ़ आती है। लेकिन छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के कोरवा आदिवासियों को इसका कोई डर नहीं है। क्योंकि इनके पास है बेवर खेती की सदियों से चली आ रही देसी तकनीक।

बेवर खेती में जमीन को जोता नहीं जोता और 56 तरह के पारंपरिक बीजों की मदद से खेती की जाती है। इस देसी तकनीक में ना बाढ़ का असर पड़ता है और ना ही सूखे का। इसमें इतनी फसल हो जाती है कि किसान का गुजारा हो जाए।

खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई चीजें सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।

किसान नान्हू रठुरिया के मुताबिक इस तकनीक में खेत को जोता नहीं है। बल्कि पहले छोटी और बड़ी झाड़ियों को जला दिया जाता है। फिर आग के ठंडा होने के बाद खेत में करीब 16 अलग अलग तरह के अनाज, सब्जियां और दलहन के बीज बो दिए जाते हैं। ये बोज बिज होते हैं जो कम या ज्यादा बारिश दोनों में ही उग जाते हैं। इसके अलावा इस देसी तकनीक में ना खाद की जरूरत होती है और ना ही पेस्टीसाइड्स की।

टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

बैगा महापंचायत के नरेश बिश्वास के मुताबिक बेवर तकनीक ना केवल मिनिमम खाने की गारंटी किसान को देती है बल्कि मिट्टी की उर्वरा शक्ति को भी बनाए रखती है। साथ ही हर तीसरे और चौथे साल में बेवर खेती के लिए नए खेत में खेती की जाती है।

बेवर खेती की ख़ास बातें

जब देश गुलाम था तब ब्रिटिश सरकार ने जंगल की कटाई रोकने के नाम पर बेवर खेती को बैन कर दिया था। लेकिन 1972 में भारतीय वन कानून बनने के लिए इस बैन को वापस ले लिया गया।

अब मध्य प्रदेश के डिंडौरी जिले में 7 गांवों में बेवर खेती होती है। करीब 2336 एकड़ इलाके में इस खेती से किसान अपना गुजर बसर करते हैं।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[facebook_likebox url=”http://www.facebook.com/kisankhabar” width=”300″ height=”200″ color=”light” faces=”true” stream=”false” header=”false” border=”true”]

फूलों की खेती से कमाते हैं 50 से 60 हजार रूपये महीना | High income from flowers farming in India

Story क्या है-- फूलों की खेती से एक किसान कैसे 50-60 हजार रूपए महीने गांव में ही कमा रहा है, देखिए पूरी कहानी इस वीडियो में। गांव में 50-60 हजार रूपए की कमाई का मतलब है शहर में करीब 1 लाख रूपए की कमाई।

#flowersfarming #youngfarmer #rosefarming #kisan #kisankhabar #agriculture #farming #modernfarming #moderntechnology #farmingtechnology #agriculturefarms #farmingmachine #किसान #गांव #खेतीनीचे दी गई Top प्लेलिस्ट में आपके काम आने वाले एक तरह के सभी वीडियोज़ को अलग अलग ग्रुप में रखा गया है। जैसे कि खेती की ट्रेनिंग से जुड़े वीडियोज़ 'Training ट्रेनिंग ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे औऱ खेती में जुगाड़ तकनीक वाले वीडियोज़ 'जुगाड़ तकनीक ‘ नाम के ग्रुप (प्लेलिस्ट) में मिलेंगे।खेती में समस्या का समाधान Solution of Agri problems = http://tiny.cc/stem7yKaise Karein कैसे करें How to do = http://tiny.cc/4xem7y Mushroom मशरूम की खेती = http://tiny.cc/bwem7yखेती में नई तकनीक Agriculture Technology = http://tiny.cc/9wem7yTraining ट्रेनिंग = http://tiny.cc/tuem7yDrip Irrigation ड्रिप इर्रिगेशन pani dene ke drip ka Tarika = http://tiny.cc/nyem7yखेती की जुताई करने वाली नई मशीनें Latest Crop Cultivation Local system = http://tiny.cc/7yem7yबीज बौने या पौधा लगाने वाली नई तकनीक Latest Cultivation Machines = http://tiny.cc/lzem7yफसल की कटाई वाली हैर New Harvesting Machines = http://tiny.cc/2zem7yखेती में चौंकाने वाले प्रयोगों (एक्सपेरीमेंट) के वीडियोज़ = http://tiny.cc/20em7yसफल किसानों की कहानी का वीडियो Successful Farmers = http://tiny.cc/k1em7yदवा छिड़कने वाली मशीनें Spraypump = http://tiny.cc/51em7yजुगाड़ तकनीक Jugaad Technology = http://tiny.cc/0nem7y ड्रोन का खेती में इस्तेमाल Drone in farming = http://tiny.cc/ppem7yपशुपालन Pashupalan = http://tiny.cc/nqem7yट्रैक्टर Tractor = http://tiny.cc/4qem7yगांव में प्रतिभा Village Talent = http://tiny.cc/9tem7yकिसानख़बर KisanKhabar Bulletin = http://tiny.cc/qwem7y विदेशीखेती farming in Foreign = http://tiny.cc/hxem7yखेती में धोखे से सावधान Beware from Fraud in Farming = http://tiny.cc/t0em7yकृप्या हमारे Youtube चैनल को जरूर सब्सक्राइव करें, ताकि आपको हिन्दी भाषा में ऐसे अच्छे वीडियोज़ के मैसेज मोबाइल पर तुरंत मिलते रहे। कृप्या वीडियो को लाइक जरूर कीजिए।1. अगर आपकी जानकारी में ऐसा भी किसान भाई है जो खेती में ऐसा ही कुछ नया कर रहे हैं, तो कृप्या हमको WhatsApp +91.78.2753.8391 पर संपर्क करें।2. अगर ऐसे ही खेती के काम आने वाले रोचक वीडियो आपके पास हैं, तो हमको अपनी और मशीन की पूरी जानकारी के साथ WhatsApp +91.78.2753.8391 करें।====== Social Media A/CsYoutube Channel - https://www.youtube.com/kisankhabarpageFB - https://www.facebook.com/kisankhabarTwitter - https://www.twitter.com/kisankhabarWebsite - https://www.kisankhabar.comAndriod App - http://tiny.cc/ffal7y===== क्या है किसानख़बर.कॉम (KisanKhabar.com) दुनिया की एकमात्र ऐसी वेब, एप और यूट्यूब चैनल हैं, जहां पर खेती से जुड़ी सिर्फ अच्छी खबरों को ही दुनिया के सामने लाया जाता है। किसानों से जुड़ी कुल 14 तरह की समस्याओं का समाधान किसानखबर.कॉम (www.kisankhabar.com) पर मिलता है।KisanKhabar.com is the only portal in Hindi which brings positive news from agriculture field from India and abroad.It brings successful stories of people in farming and tells about new technology in the agriculture field. Apart from this, KisanKhabar.com gives complete details about "how to do" anything in the agriculture field.If you have any interesting story related to farmers/farming/ farming technology etc, please send us to - kisankhabar@gmail.comContact on Phone +91.78.2753.8391 =====

स्टोरी पर कृप्या कॉमेंट करें

Hits: 3855



खेती से जुड़े रोचक वीडियो देखने और नई सीखने के लिए Kisan Khabar के Youtube Channel के नीचे दिए गए लाल रंग के बटन पर जरूर क्लिक करें।



कृप्या फेसबुक लाइक बटन पर क्लिक जरूर करें ताकि आपको खेती की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें आसानी से फ्री में मिल सकें।



टेलीग्राम (Telegram) एप पर खेती-बाड़ी की अच्छी और काम आने वाली ख़बरें रोज फ्री में पाने के लिए ग्रुप को ज्वाइन करें।

27 thoughts on “इन किसानों को नहीं सूखे और ज्यादा बारिश से चिंता, करते हैं अनोखे ढंग से खेती

  1. 66350 315159Outstanding read, I just passed this onto a colleague who was doing just a little research on that. And he actually bought me lunch as I discovered it for him smile So let me rephrase that: Thank you for lunch! 97181

  2. 41904 351233Hello there, just became alert to your weblog by way of Google, and identified that it is truly informative. Im gonna watch out for brussels. I will appreciate in the event you continue this in future. Lots of men and women will be benefited from your writing. Cheers! xrumer 536896

  3. 327491 413084Extremely excellent written post. It will likely be useful to anybody who usess it, including myself. Maintain up the excellent work – canr wait to read a lot more posts. 658021

  4. 856111 830040Hello! I just now would choose to supply a enormous thumbs up with the great info you could have here within this post. I will be coming back to your weblog site for additional soon. 182989

  5. 883548 975509When I originally commented I clicked the -Notify me when new feedback are added- checkbox and now every time a remark is added I get four emails with the same comment. Is there any approach you will be able to remove me from that service? Thanks! 650115

  6. 15922 480492Hi, ich habe Ihre Webseite bei der Suche nach Fernbus Hamburg im Internet gefunden. Schauen Sie doch mal auf meiner Seite vorbei, ich habe dort viele Testberichte zu den aktuellen Windeleimern geschrieben. 320253

  7. 23401 34291Thanks for the post. I like your writing style – Im trying to start a blog myself, I feel I might read thru all your posts for some suggestions! Thanks once a lot more. 993230

Leave a Reply

Your email address will not be published.