October 13, 2016

खेती में अब आए दिन कोई ना कोई ना तकनीक ईजाद हो रही है। ये अच्छा भी है क्योंकि इनसे खेती की ना केवल लागत कम होती है बल्कि मुनाफा भी बढ़ता है।

अब ज़ीरो टिलेज तकनीक (Zero Tillage Machine) खोज ली गई है। कृषि वैज्ञानिकों ने हरियाणा के 200 किसानों की खेती की जमीन पर इसका परीक्षण सफलता के साथ किया। परीक्षण में रिजल्ट बहुत अच्छे आए और किसानों को नई तकनीक की वजह से 16 प्रतिशत ज्यादा गेंहू का उत्पादन मिला। इसलिए अब इसे हरियाणा सरकार भी बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देने के सुझाव पर विचार कर रही है।

क्या है ज़ीरो टिलेज तकनीक (Zero Tillage Machine) और क्या है इसके फायदें?

  1. ज़ीरो टिलेज तकनीक (Zero Tillage Technology) में धान की कटाई के बाद किसान खेत में लगे खरपतवार को हटाने के बजाय उन्हीं के साथ नई फसल के बीज को बो देता है।
  2. परंपरागत तरीके से खेती करने पर खरपतवार हटाने के लिए मजूदरों का खर्च बढ़ जाता है, जो कि अब जीरो टिलेज तकनीक में नहीं होता। यानी मजदूरी बच जाती है।
  3. परंपरागत खेती में खरपतवार हटाने के बाद खेत की जुताई के लिए ट्रैक्टर पर खर्चा करना पड़ता है, जबकि जीरो टिलेज में जुताई करने की जरूरत ही नहीं होती। यानी लागत बच जाती है।
  4. पुराने तरीके से खेती करने में रोटरी से जुताई करनी पड़ती है जबकि नई तकनीक में इसकी जरुरत ही नहीं होती। यानी फिर से लागत बच गई।
  5. बहुत बड़ा फायदा ये कि जनवरी-फरवरी में होने वाली बेमौसम बारिश का इस तकनीक से की गई खेती पर या तो कोई असर नहीं पड़ता या फिर थोड़ा ही नुकसान होता है। दरअसल, एक विशेष प्रकार की मशीन की मदद से जीरो टिलेज तकनीक में पहले से तय की गई एक निश्चित गहराई पर गेंहू को बिना जोते ही धान के खरपतवार के साथ बो दिया जाता है। ऐसे में जब बारिश होती है तो धान के खरपतवार इन बीजों की रक्षा करने के साथ साथ पानी को तेजी से सोखकर फसल को नुकसान होने से बचा लेते हैं।
Tag : Zero Tillage Machine, Zero Tillage technology kaya hai aur kaise hoti hai

 

ये भी पढ़ें – खेती की 70 साल पुरानी जापानी तकनीक के बारे में भी पढ़े जिस पर लिखी जा चुकी हैं कई किताबें और इसमें भी नहीं होती है जुताई

 

Click to LIKE it कृप्या लाइक बटन पर क्लिक करें।

Powered by FB Like Lock

Comments

comments

Vandana Singh
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है