April 2, 2017 Weather forecast 2017 kisankhabar

इसमें कोई दो राय नही कि  साल 2016 किसानो के लिए बेहतरीन रहा था , लेकिन इस साल लगता हैं कि मौसम का मिजाज कुछ बदल सकता हैं । अभी तो  गर्मी शुरू भी नही हुई है और आसमान से आग की बरसात होने लगी है।




मौसम पर नजर रखने वाली एक प्राइवेट कंपनी स्काईमैट ने भविष्यवाणी की है कि इस साल का मानसून सामान्य से कम रह सकता है। लिहाजा जून से सितंबर के बीच मानसूनी बारिश 95 प्रतिशत तक रह सकती है।

देश में 70 प्रतिशत बरसात इन्ही तीन महीनों में होती है जिस पर भारत का किसान और उसकी खेती निर्भर करती हैं । वही यह बरसात खरीफ फसलों के लिए महत्वपूर्ण होती हैं । स्काईमैट के अनुसार अल नीनो का असर मानसून पर हावी हो सकता है और जिसके चलते 50 फीसदी मानसून की ही उम्मीद है।




भारत के पश्चिमी इलाके और इससे जुड़े मध्य भारत और पेनिसुलर इंडिया के ज्यादातर हिस्सों में समान्य से कम बरसात होने की संभावना हैं । लेकिन वहीं पूर्वी भारत के किसानों को निराश होने की जरुरत नहीं हैं वहां इस साल भी अच्छी बारिश की संभावना है।

कहा जाता हैं कि भारत में गर्मी मई के महीने से शुरु होती हैं, लेकिन मार्च महीने में ही मौसम ने अपना असर दिखाना शुरू भी कर दिया है। मार्च के महीने में ही  चिलचिलाती धूप ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया। उत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक इस चढ़ते पारे ने सभी को परेशान किया हुआ हैं।

Comments

comments

Comments

comments

Tagged on:
Vandana Singh
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है