October 28, 2016 नजल्लानी किस्म की इलायची बना चुकी है केरल और कर्नाटक के किसानों को करोड़पति, नजल्लानी इलायची की बाजार में हमेशा रहती है जबरदस्त मांग, 30 प्रतिशत बाजार पर है इसका कब्जा

दुनिया के बाजार में भारतीय मसालों की क्या ताकत है ये बताने की जरूरत नहीं लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन मसालों को पिछले 25 साल में किसने सबसे बड़ी पहचान दिलाई है? किस तरह इलायचकी की एक खास किस्म ने किसानों को करोड़पति बना दिया है।

जिस तरह सब्जी में आलू और फलों का राजा आम माना जाता है उसी तरह दक्षिण भारत में जबरदस्त ढंग से उत्पादन करने वाली नजल्लानी (Njallani) किस्म की इलायची को मसालों का राजा बोला जाए तो शायद गलत नहीं होगा।

ये वो किस्म है जिसकी खोज करने वाले किसान जोसेफ खुद तो गरीब ही रह गए लेकिन उनकी खोज ने केरल और कर्नाटक के किसानों को करोड़पति बना दिया।

क्या है नजल्लानी (Njallani) किस्म की इलायची की खासियत

केरल में इडुक्की नाम का एक जिला है। इस जिले की पहचान नजल्लानी किस्म की इलायची के सबसे बड़े उत्पादक के रूप बन गई है। इस वजह से दुनिया में ग्वाटेमाला के बाद भारत की इलायची का ही डंका बजता है।

नजल्लानी किस्म की इलायची प्रति हेक्टेयर उत्पादन 1500 किलो देती है जबकि बाकी दूसरी किस्म की इलायची का उत्पादन प्रति हेक्टेयर सिर्फ 200 से 250 किलो के बीच ही रहता है। यानी अगर किसान नजल्लानी किस्म की इलायची लगाता है तो उसे 6 से 7.5 गुना तक ज्यादा उत्पादन मिलता है।

कीमत कितनी है बाजार में

इलायची को महंगा मसाला माना जाता है। मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 280 से लेकर 330 रूपए प्रति किलोग्राम है। जबकि घरेलू बाजार में इसकी कीमत करीब 350 रूपए प्रति किलो है।

पिछले साल केरल में किसानों ने 1500 किलो नजल्लानी इलायची को बाजार में करीब 5 लाख 25 हजार रूपए में बेचा था। जबकि 200 से 250 किलो उत्पादन वाली इलायची 87500 में बिकी।

2001 में तो एक किसान ने तो एक हेक्टेयर खेत से नजल्लानी किस्म की इलायची से 2750 किलो उत्पादन हासिल किया, जिसके स्पाइस बोर्ड ने उस किसान को अवॉर्ड देकर सम्मानित भी किया।

आज के दौर में भारत में जितना भी मसाले का कुल उत्पादन होता है उसमें 70 प्रतिशत हिस्सेदारी नजल्लानी इलायची की है।

 

कैसे हुई इसकी खोज

90 के दशक में इसकी खोज चौथी क्लास तक पढ़े किसान जोसेफ ने गलती से कर डाली। लेकिन उस गलती का फायदा 2 दशक बाद दक्षिण भारत के हजारों किसानों को जबरदस्त ढंग से हो रहा है।

दरअसल, जोसेफ ने सोचा कि क्यों ना खेती के साथ साथ मधुमक्खी पालन से कुछ अतिरिक्त कमाई की जाए। इस विचार के साथ जोसेफ ने इलायची के खेत पर मधुमक्खियों के पालन का काम शुरु कर दिया। लेकिन मधुमक्खियों ने तो इलायची की प्रजातियों को परागण करने का काम शुरु कर दिया।

ये भी पढ़ें – देश में खेती में और कौन कौन सी नई खोजें हुई हैं जो किसानों को दे रही है जबरदस्त कमाई का मौका

ये देखकर जोसेफ के दिमाग में एक नया आइडिया आया। उन्होंने सबसे पहले तो परागण से तैयार हुई इलायची की प्रजातियों को बाकी सामान्य प्रजातियों से अलग करने के लिए जाल डाल दिया। ताकि मधुमक्खियां उनका रस ना चूस लें। साथ ही उनको जोसेफ ने निशान लगाकर चिन्हित भी कर दिया।

इन पौधों को गिनने के बाद इनमें से ज्यादा उत्पादन देने वाले पौधों को अलग करके परागण कराया। ये सब करने में उनको करीब 1 दशक यानी 10 साल लग गए। लेकिन 10 साल बाद उन्होंने जबरदस्त खोज की और एक नई किस्म को तैयार कर दुनिया को दे दी।

उनकी इस अनोखी रिसर्च में पता चला कि पहले तो इलायची के पौधे 30 से 40 के बीच इलायची देते थे, लेकिन जोसेफ के तरीके से तैयार की गई नई किस्म के पौधे से 120 से 150 के बीच इलायची मिलने लगी।

इस खोज के बाद जोसेफ ने इलायची की नई किस्म का नाम अपने परिवार के नाम पर रखा यानी नजल्लानी।

राष्ट्रीय इलायची अनुसंधान संस्थान ने भी इस बात को सही पाया कि जोसेफ की खोज नजल्लानी इलायची बाकी सभी किस्म से बहुत ज्यादा उत्पादन देती है।

Tag : Njallani illaychi, illaychi ki kehti kaise hoti hain, Njallani illaychi kahan milegi

Comments

comments

Tagged on:
Vandana Singh
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है