भारत का एक गांव कमाता है 1.5 अरब रूपए, बन गया है एशिया का सबसे अमीर गांव

0
117

कुछ समय पहले हमने भारत के एक ऐसे गांव की कहानी पोस्ट की थी, जिसमें दर्जनों करोड़पति किसान हैं। इसी कड़ी में अब लाए हैं भारत के अरबपति गांव की कहानी, जो अब अरबों की कमाई की वजह से बन गया है एशिया का सबसे अमीर गांव।

Billionaire Village in Asia

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला को दुनिया इसकी प्राकृतिक खूबसूरती और सेबों की वजह से जानती है। लेकिन अब इस शहर को एक और नई पहचान मिल गई है। शिमला के सेब देश-विदेश में खूब पसंद किए जाते हैं। शिमला जिले की चौपाल तहसील में एक गांव है मड़ावग। मड़ागव में लोगों की कमाई का एकमात्र जरिया खेती ही है।

गांव की जनसंख्या करीब 2000 है और यही 2 हजार लोग अब 1.5 अरब लोग कमाते हैं। दरअसल मड़ावग में मुख्यतौर पर आपको सभी जगह पर सेब के बाग ही मिलेंगे। लेकिन अब यहां आपको आलीशान मकान भी देखने को मिल जायेंगे। वजह से सेब की कमाई से होने वाली अरबों रूपए की कमाई। गांव के सेब ज्यादातर विदेश में एक्सपोर्ट होते हैं, जिनसे गांव के लोगों को जबरदस्त कमाई होती है।




Billionaire Village in Asiaदरअसल, मड़ावग गांव में लोग नई तकनीक से सेब की खेती करते हैं। वो इंटरनेट के जरिए देश-विदेश से सेब से संबंधित सभी जानकारी जुटाते रहते हैं। बाजार का भाव जानकर वो अपने सेबों को बेचते हैं। तकनीक का सहारा लेकर वो समय समय पर अपनी फसल में जरूरी बदलाव करते रहते हैं। सेब की खेती दो तरीके से होती है, एक तो ऑन इयर प्रोडक्शन और दूसरी ऑफ इयर प्रोडक्शन। मड़ावग में सेब की खेती ऑन इयर प्रोडक्शन से होता है।

पहले कौन सा गांव था अरब

मड़ावग ने प्रति व्यक्ति आय के मामले में गुजरात को भी पीछे छोड़ दिया है। इस गांव से पहले गुजरात का माधवपर एशिया का सबसे अमीर गांव रह चुका है। शिमला जिले का एक और गांव क्यारी भी 1982 में एशिया का सबसे अमीर गांव रह चुका है वहा भी सेब की खेती होती थी।

Click to LIKE it कृप्या लाइक बटन पर क्लिक करें।

Powered by FB Like Lock

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here