अब कर्नाटक में मौसम के खतरनाक होने की जानकारी पहले ही मिल जाएगी, राज्य सरकार ने की Earth Networks से डील

Hits: 39

कर्नाटक अर्थ नेटवर्क्‍स के टोटल लाइटनिंग डिटेक्‍शन नेटवर्क के साथ मौसम को लेकर तैयार है, यह राज्‍य के लोगों की रक्षा करेगा और मौसम संबंधी आंकड़ों तक पहुंच को विस्‍तारित करेगा 

अर्थ नेटवर्क्‍स ने आज घोषणा की है कि कर्नाटक राज्‍य ने लाइव वेदर मॉनीटरिंग, लाइ‍टनिंग डिटेक्‍शन और रियल-टाइम अलर्टिंग लागू करने के लिए अर्थ नेटवर्क्‍स का चयन किया है। इसके तहत राज्‍य में जीवनरक्षक मौसम भविष्‍यवाणी और अलर्टिंग सेवायें प्रदान की जायेंगी। यह घोषणा सिंगापुर में होने वाले इंटरमेट एशिया 2018 प्रदर्शनी और सम्‍मेलन से पूर्व की गई है।

भारत में अर्थ नेटवर्क्‍स टोटल लाइटनिंग नेटवर्क सुरक्षा एवं आपदा प्रबंधन एजेंसियों की मदद करता है। ताकि जिंदगियां बचाने, घायलों की संख्‍या कम करने और संपदा नुकसान न्‍यूनतम करने के लिए आने वाले गंभीर मौसम की लोगों को पहले से चेतावनी मुहैया कराई जाये। यह नेटवर्क, कई भारतीय राज्‍यों जिसमें आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल शामिल हैं, को लाभ पहुंचा रहा है। कर्नाटक में भी इस नेटवर्क के आने से यहां के निवासी और आगंतुकों को स्‍थानीय भविष्‍यवाणी, और वास्‍तविक समय में मौसम संबंधी गंभीर चेतावनी जैसी मौसम संबंधी विस्‍तृत जानकारी तक पहुंच मिलेगी जोकि पहले क्षेत्र में उपलब्‍ध नहीं थीं।

EarthNetworks ki karnataka government se deal
EarthNetworks ki karnataka government se deal

जिम एंडरसन, अर्थ नेटवर्क्‍स में वैश्विक बिक्री में वरिष्‍ठ उपाध्‍यक्ष ने कहा, “मौसम सुरक्षा की बात करें तो भरोसेमंद भविष्‍यवाणियों का अभाव और एक समान मौसम जानकारी का मतलब है कि भारत के कई इलाकों को असुविधा होती है। हमारा लक्ष्‍य इसमें बदलाव लाना है और हम भारतमेंआपदा प्रबंधन अभिकरणों एवं स्‍थानीय भागीदारों के साथ संबंध बनाकर ऐसा करेंगे ताकि मौसम संबंधी महत्‍वपूर्ण जानकारी लोगों तक पहुंचा सकें जिन पर बाढ़, तूफान और अन्‍य विनाशकारी मौसमी घटनाओं का जोखिम सबसे अधिक मंडराता है।”

EarthNetworks ki karnataka government se deal
EarthNetworks ki karnataka government se deal

90 से अधिक देशों में परिचालन कर रहा, अर्थ नेटवर्क्‍स टोटल लाइटनिंग नेटवर्क दुनिया में सबसे व्‍यापक लाइटनिंग नेटवर्क है। इन-क्‍लाउड लाइटनिंग पर नजर रखने में इसका सामर्थ्‍य और क्‍लाउड-टु-ग्राउंड लाइटनिंग स्‍थानीय रूप से तेजी से स्‍टॉर्म अलर्ट देने में सक्षम बनाती है, इससे भविष्‍यवाणी करने वाले लोग डाउनबर्स्‍ट, भारी वर्षा, ओलावृष्टि और तेज हवाओं जैसे गंभीर मौसमों के बारे में चेतावनी दे सकते हैं।

कर्नाटक राज्‍य प्राकृतिक आपदा निगरानी केंद्र (केएसएनडीएमसी) के निदेशक, डॉ. जी.एस.श्रीनिवास रेड्डी ने कहा, “मौसम संबंधी किसी अन्‍य घटना की तुलना में बिजली गिरने और खतरनाक तूफान आने से कर्नाटक में कई लोगों की मौत हो जाती है। इससे मवेशियों और फसलों पर भी विनाशकारी असर पड़ता है। यह जीवनरक्षक अर्ली वार्निंग सिस्‍टम अब हमारे कॉल सेंटर और निशुल्‍क मोबाइल ऐप्‍लीकेशन के माध्‍यम से बिजली और अन्‍य खतरनाक स्थितियों के बारे में राज्‍य के हर गांव में सीधे जानकारी प्रसारित करेगा।”

EarthNetworks ki karnataka government se deal
EarthNetworks ki karnataka government se deal

यह साझेदारी सरकार और लोक रक्षा एजेंसियों दोनों के लिए बेहतरीन हैं जोकि अर्थ नेटवर्क्‍स के उत्‍पादों तक पहुंच बनाने में सक्षम होंगे और इससे राज्‍य में जिंदगियां बचाने और संपदा के नुकसान को कम करने में मदद मिलेगी जोकि गंभीर मौसम के कारण होती हैं। साथ ही निजी उद्योग के साझीदारों को अपना परिचालन इष्‍टतम करने, रुझानों का विश्‍लेषण करने और महत्‍वपूर्ण आधारभूत संरचना सुरक्षित रखने के लिए मौसम के आंकड़ों के नये स्रोतों तक पहुंच मिलेगी।

अर्थ नेटवर्क्‍स के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें Earth Networks

News Reporter
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है