गोबर को खेत में खाद समझकर यूं ही ना डालें, जानें कि कैसे बेकार पड़े गोबर के ढेर से 40 दिन में घर पर ही कम्पोस्ट खाद बनाया जा सकता है

Hits: 21405

ये बात तो सभी जानते हैं कि गाय-भैंस के गोबर से बढ़िया खाद कुछ भी नहीं होती। लेकिन अक्सर किसान ये समझ नहीं पाते कि गोबर का जो ढेर उन्होंने खाद के रुप में इस्तेमाल करने के लिए घर या खेत में बना रखा है, उसे अगर यूं ही खेत में डाल दिया जाए, तो किसी काम का नहीं है।

इस बात का आप यूं भी समझ सकते हैं कि केसर को यूं ही खा लिया जाए तो फायदा नहीं होगा लेकिन अगर केसर को दूध में डालकर रोजाना पिया जाएं, तो बहुत फायदेमंद साबित होता है।




इस आज किसानख़बर.कॉम के जरीए आप ये सीखेंगे कि कैसे बेकार पड़े गोबर के ढेर को जबरदस्त असर करने वाली कम्पोस्ट खाद में बदलकर खेतों में इस्तेमाल किया जाए।

लेकिन इससे पहले ये समझ लें कि गोबर के ढेर को खाद समझकर यूं ही खेत में डालने से क्या नुकसान होता है।

गोबर के ढेर को खाद समझकर खेत में डालने से होने वाले नुकसान

  1. ऐसे गोबर की वजह से खेत में खरपतवार पैदा होने लगती है।
  2. इस तरह को गोबर खेती मिट्टी और पौधों में बिमारियों के जीवाणों का घर बन जाता है।
  3. इसमें लाभदायक जीवाण और पोषकतत्व बहुत ही कम होते हैं। या यूं समझ लीजिए कि होते ही नहीं हैं।
  4. इस तरह के गोबर से खेती की मिट्टी को 5-7 साल में भी कोई फायदा नहीं होता।




 

गोबर के ढेर से कैसे तैयार करें कम्पोस्ट खाद

  1. गोबर का ढेर ढाई फुट ऊंचाई तक बनाएं और उसे समतल कर लें। ध्यान रहे कि ये ढाई फुट से ज्यादा ऊंचा ना हो, बेशक इसकी लंबाई चौड़ाई आप अपने पास उपलब्ध जमीन के हिसाब से कितनी भी रख सकते हैं।
  2. फिर सूरज के उगने और छिपने की दिशा में साठ डिग्री के कोण पर गोबर के इस डेर में तिरछे छेद बनाए जाने चाहिए।
  3. इसके बाद 3 इंच वाले किसी पाइप या डंडे से गोबर के इस ढेर पर सभी जगह छेद बना दें।
  4. ये ध्यान रहे कि दो छेदों के बीच की दूरी 1 फीट जरुर हो। साथ ये भी जरूरी है कि जब आप पाइप या डंडा छेद बनाने के लिए डाले तो वो बिल्कुल नीचे जमीन तक जाना चाहिए यानी ढाई फीट नीचे तक।
  5. फिर इस ढेर को यूं ही 7 दिन तक के लिए खुला छोड़ दीजिए।
  6. अब आठवें दिन खाद टीके की एक लीटर मात्रा प्रत्येक छेद में डाले और छेद को पराली या घास से ढक दें।
  7. इसके बाद 15वें दिन फिर से इसी प्रक्रिया को दोहराएं।
  8. 21वें दिन भी आपको यही प्रक्रिया दोबारा दोहराना होगी।
  9. अब 40वें दिन जब आप पराली या घास हटाकर देखेंगे तो आपका बेकार पड़ा गोबर का ढेर अब जबरदस्त कम्पोस्ट खाद बन चुका होगा।

एक बार का सबसे ज्यादा ध्यान रखें कि कम्पोस्ट खाद उस जगह भूलकर भी ना बनाएं, जहां पानी भरा रहता है या फिर पानी भरने की संभावना होती है। ये आपकी पूरी मेहनत पर पानी फेर सकता है।

ये भी पढ़ें – कई और तकनीक, जिनको आप घर पर ही अपनाकर खेती को कर सकते हैं आसान। पढ़ने के लिए क्लिक करें।

Tags : compost khad kaise banaye, gobar se compost khad banane ka tarika




[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]

News Reporter
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

Leave a Reply

Your email address will not be published.