खेत में घुस आने वाले जानवरों को रोकने का नायाब तरीका, सोलर फेंसिंग बनेगी दीवार

Hits: 4373

हाल ही में फसलों को खराब करने वाली नील गायों को शूटरों से मरवाने की खबर ने खूब हंगामा किया था, लेकिन अब मध्य प्रदेश सकार ने इस समस्या का नया रास्ता खोज लिया है।

सरकार ने खेतों में घुस आने वाले जानवरों को रोकने का रास्ता ढूंढ लिया है। सरकार अब ऐसे जानवरों को सोलर फेंसिंग से रोकेगी। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के आसपास बसे 16 गांवों में सोलर पावर फेंसिंग से किसानों की फसलें जंगली जानवरों के आक्रमण से बचाई जाएंगी।

सोलर पावर फेंसिंग लगाने से न सिर्फ किसानों की फसलें सुरक्षित होंगी बल्कि जंगली जानवरों को भी कोई खतरा नहीं रहेगा।




लगेगा करंट का झटका

सोलर पावर फेंसिंग लग जाने के बाद यदि जंगली जानवर इस फेंसिंग को छुएंगे, तो उन्हें करंट का झटका लगेगा और वे तुरंत पीछे हट जाएंगे। इस तरह फेंसिंग की वजह से जानवर खेतो की तरफ जाने बंद कर देंगे।




शिकार का खतरा नहीं

सोलर पावर फेंसिंग की वजह से जब जानवर खेतों की तरफ रूख नहीं करेंगे, तो जानवरों के शिकार का खतरा भी खत्म हो जाएगा। अभी तक गांव के किसान जंगली जानवरों से अपनी फसल को सुरक्षित करने के लिए जंगल के आसपास बिजली का करंट लगाते आए है। इस वजह से जंगली के कई बड़े जानवरों की मौत हो चुकी है।

ऐसे में बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व ने फसल और जानवरों की सुरक्षा के लिए 68 किलोमीटर लंबी पावर फेंसिंग लगाने का फैसला लिया है। इसके लिए प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। जल्द ही जंगल के आसपास के 16 गांव सोलर फेंसिंग से घेर दिए जाएंगे।

कुछ जंगली जानवर शाकाहारी होने के कारण फसलों को खाने गांव में चले जाते हैं। किसान फसलों को बचाने के लिए करंट लगा देते हैं इससे कई बार बड़े हादसे हो जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि सोलर पावर फेंसिंग लगाकर जानवरों को सुरक्षित किया जाए।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]

News Reporter
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

Leave a Reply

Your email address will not be published.