एक किसान आधे बीघा खेत से भी कमाता ढाई लाख रूपए से ज्यादा, जापान तक है इसकी पहुंच

Hits: 57661

बड़े बड़े होटलों में खूब मांग

पुरानी कहावत है कि किस्मत उन्हीं का साथ देती है जो मेहनत करते हैं। बिना मेहनत के किस्मत भी मुंह मोड़ लेती है। कुछ ऐसा ही कारनामा किस्मत ने राजस्थान के एक किसान के साथ किया है।

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के किसान नंदलाल ने सिर्फ आधा बीघा खेत से 2.5 लाख रूपए कमाए हैं। ये कमाई उनको शिमला मिर्च की खेती से हुई है। अब उनकी शिमला मिर्च की डिमांड 5 स्टार होटल्स में है। यही नहीं, मिर्च की कीमत, बाजार या खऱीदने वाला नहीं बल्कि वो खुद तय करते हैं। अब तो उनकी मिर्च जापान जैसे देश के लिए एक्सपोर्ट भी होने लगी है।

खर्चा एक लाख, कमाई 3.60 लाख

शिमला मिर्च में है मोटी कमाई
शिमला मिर्च में है मोटी कमाई

3 साल पहले नन्दलाल जाट ने खेती करना शुरू किया था। उसने 1 लाख रूपए की लागत से आधा बीघा खेत में शिमला मिर्च लगाई। बदले में उसे 60 कुंटल की पैदावार मिली। जिसे बेचकर उसने 3 लाख 60 हजार रूपए कमाए। यानी 1 लाख की लागत पर 2 लाख 60 हजार रूपए का लाभ।

गांव के सरपंच रह चुके नंदलाल ने देश में कई जगहों को घूमकर खेती के मॉडल जाने और वही तरीके अपने खेत पर आजमा कर अब वो अच्छी कमाई करते हैं।

नंदलाल ने शिमला मिर्चा का पॉली हाऊस बनाया था। अच्छी खाद और मिट्टी के मिश्रण से अच्छे पौधे तैयार किए गए। शिमला मिर्च के सिर्फ 30 ग्राम बीजों से, 3000 पौधे तैयार किए। इनको 50 सेंटी मीटर की दूरी पर खेत में लगाया गया था।

पानी की सिंचाई के लिए पॉलीहाउस में ड्रिप इर्रिगेश तकनीक का इस्तेमाल किया गया। नतीजा, 3 महीने बाद ही शिमला मिर्च का उत्पादन मिलने लगा। जो भी पैदावार हुई, वो 60 रूपए प्रति किलो के हिसाब से बेची गई।

अब तो नंदलाल ने ककड़ी और टमाटर की खेती भी इसी तर्ज पर शुरु कर दी है।

[wp-like-lock] your content [/wp-like-lock]

[youtube_channel resource=0 cache=300 random=1 fetch=10 num=1 ratio=3 responsive=1 width=306 display=thumbnail thumb_quality=hqdefault autoplay=1 norel=1 nobrand=1 showtitle=above showdesc=1 desclen=0 noanno=1 noinfo=1 link_to=channel goto_txt=”खेती के लिए बहुत काम आने वाले वीडियो देखने के लिए हमारे Youtube चैनल पर क्लिक करें।”]

News Reporter
वंदना सिंह को पत्रकारिता का 10 साल का अनुभव है

Leave a Reply

Your email address will not be published.